चमकी के बाद डेंगू और चिकनगुनिया की मार, नीतीश सरकार हुई सतर्क

PATNA: बिहार में चमकी बुखार के कहर से 150 से अधिक बच्चों की मौत हुई। इस बुखार को लेकर नीतीश सरकार पर लापरवाही का आरोप लगाया गया। वहीँ अब राज्य में डेंगू और चिकनगुनिया को लेकर लोगों के बीच भय देखा जा रहा है। इसको लेकर अब सरकार भी पहले से ही सतर्क दिखाई दे रही है।

चमकी बुखार को लेकर हुई सरकार की लापरवाही से सबक लेते हुए अब स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू और चिकनगुनिया को लेकर पहले से ही अपनी कमर कस ली है। डेंगू और चिकनगुनिया को लेकर राज्य के सभी सदर अस्पतालों में पांच-पांच बेड के विशेष डेंगू वॉर्ड बनाने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

AES

नीतीश सरकार अब किसी तरह की कोई लापरवाही नहीं बरतना चाहती है। जिस तरह से चमकी बुखार को लेकर नीतीश सरकार विपक्षी दलों के निशाने पर आ गई उसे देखते हुए सरकार ने इन बीमारियों से लड़ने के लिए पहले से ही अपनी कमर कस ली है।

बता दें कि स्वास्थ्य समिति ने जुलाई को ‘ऐंटी डेंगू मंथ’ के रूप में मनाने के आदेश जारी किये हैं। स्वास्थ्य समिति द्वारा राज्य के सभी सरकारी अस्पतालों को निर्देश जारी कर दिए गए हैं। राज्य के सरकारी अस्पतालों के साथ-साथ निजी अस्पतालों को भी डेंगू से निपटने के लिए डेंगू जांच किट और आवश्यक दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश जारी किये गए हैं। वहीँ इन बीमारियों पर सभी मेडिकल, पैरामेडिकल और अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को जागरूक करने को कहा गया है।