गिलोय पत्तों के सेवन से खत्म हो जाऐगी डायबिटीज की बीमारी, इम्युन सिस्टम को भी करता है ठिक

Patna: केंद्र सरकार ने जल्द ही गिलोय को राष्ट्रीय औषधि घोषित करने वाली है। पान की पत्ते की तरह दिखने वाले गिलोय को किसी भी मौसम में लगाया जा सकता है। इसका सेवन बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक कर सकते हैं। यह स्वाइन फ्लू, जीका वायरस, डेंगू, मलेरिया, डायबिटीज की बीमारी में काफी कारगर है। इसमें एंटीबायोटिक, एंटीएलर्जिक, एंटी डायबिटिक, एंटी इनफ्लेमेटरी व एंटी ऑक्सीडेंट गुण होते हैं। इसे शरीर का इम्युन सिस्टम ठीक करने के लिए भी सेवन किया जाता है।

तो वहीं राजकीय आयुर्वेद कॅालेज के प्राचार्य डॉ. दिनेश्वर प्रसाद ने कहा कि यह गर्व की बात है कि गिलोय को राष्ट्रीय औषधि घोषित करने की पहल शुरू हुई है। इसके लिए केंद्र सरकार के आयुष मंत्रालय और बिहार सरकार से भी पत्र आया है और प्रोजेक्ट रिपोर्ट मांगी गई है। इसका प्रचार-प्रसार करना है, ताकि इसका लाभ सभी को मिल सके। साथ ही डॉ. दिनेश्वर प्रसाद ने कहा कि जो गिलोय नीम के पेड़ पर चढ़ गया वह अधिक लाभकारी होता है। गिलोय से बनी कई दवाएं बाजार में उपलब्ध हैं। इसके पत्ते से जड़ तक का इस्तेमाल किया जाता है। आयुर्वेदिक काॅलेज अस्पताल के अधीक्षक डॉ. देवानंद प्रसाद सिंह ने कहा कि गिलोय में चमत्कारिक औषधीय गुण है। हालांकि इसका इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए।

आपको बता दें कि गिलोय घर के आसपास देखने को मिलता है, लेकिन लोग इसे पहचानते नहीं हैं। प्रचार-प्रसार कम होने के कारण और रिसर्च की कमी से लोग इसका लाभ नहीं उठा पाते हैं। डॉ. पांडेय ने बताया कि केंद्रीय आयुष सचिव वैद्य राजेश कोटेचा व सेंट्रल काउंसिल ऑफ इंडियन मेडिसिन के अध्यक्ष डॉ. जयंत देवपुजारी की कोशिश है कि गिलोय जैसी अन्य आयुर्वेद औषधियों को पूरी दुनिया वैज्ञानिक रूप में विश्वास के साथ उपयोग करे। वर्तमान में विभिन्न रोगों के औषधीय योगों में गिलोय का 30 फीसदी तक उपयोग हो रहा है।

The post गिलोय पत्तों के सेवन से खत्म हो जाऐगी डायबिटीज की बीमारी, इम्युन सिस्टम को भी करता है ठिक appeared first on Mai Bihari.