CM नीतीश की बेटियों को बड़ी सौगात, डिस्टेंस मोड से स्नातक करने वाली छात्राओं को मिलेंगे 25 हजार

PATNA : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य की बेटियों के लिए एक बड़ी सौगात दी है। बिहार के विश्वविद्यालयों से घर बैठकर स्नातक की पढ़ाई करने वाली छात्राओं को बिहार सरकार ने बड़ा तोहफा दिया है। सरकार अब डिस्टेंस मोड में स्नातक करने वाली छात्राओं को भी प्रोत्साहन भत्ता देगी।

नीतीश सरकार ने योजना बनाई है कि जल्द ही राज्य के विश्वविद्यालयों से डिस्टेंस मोड में स्नातक की पढ़ाई करने वाली छात्राओं को प्रोत्साहन भत्ता के रूप में 25 हजार रुपए की राशि उपलब्ध कराई जाए। इस योजना की तैयारियां भी तेजी के साथ चल रही हैं। वहीँ उम्मीद की जा रही है कि मंगलवार को होने वाली कैबिनेट की बैठक में इस योजना को मंजूरी भी मिल सकती है।

Quaint Media Quaint Media consultant pvt ltd Quaint Media archives Quaint Media pvt ltd archives Live Bihar

मिली जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कन्या उत्थान योजना के अंतर्गत मुख्यमंत्री बालिका (स्नातक) प्रोत्साहन योजना की राशि मान्यताप्राप्त संस्थानों से स्नातक या समकक्ष उत्तीर्ण होने वाली छात्राओं को मिलेगी। नीतीश सरकार जल्द ही इस योजना की घोषणा कर सकती है। कि इससे पहले नीतीश सरकार द्वारा 25 जुलाई, 2018 के बाद स्नातक करने वाली छात्राओं को 25 हजार रुपए की राशि दी जाने की योजना है।

नीतीश कुमार अपनी योजना के द्वारा बिहार को एक नए मुकाम की और बढ़ा रहे हैं। अपनी योजनाओं के द्वारा जनता के सभी वर्गों तक पहुँच बनाने वाले नीतीश कुमार इसी वजह से विकास पुरुष के नाम से भी जाने जाते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि बजट सत्र के दौरान राज्य के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने बताया कि आर्थिक विकास दर रिपोर्ट में बिहार एक बार फिर देश का सर्वाधिक विकास दर वाला राज्य बन गया है। बिहार ने वर्ष 2007-08 से लगातार राजस्व अधिशेष वाले राज्य का दर्जा बरकरार रखा है। वहीँ अगर विकास दर की बात करें तो 2017-18 में राज्य की विकास दर 11.3 प्रतिशत रही। जोकि अन्य राज्यों के मुकाबले देश में सबसे अधिक है। साल 2016-17 के दौरान विकास दर 9.9 प्रतिशत रहा था। विकास दर में बढ़ोतरी बेहतर वित्तीय प्रबंधन का सूचक है। बिहार जिस तरह से आगे बढ़ रहा है वह सीएम नीतीश की योजनाओं के चलते संभल हो रहा है।
Micro-credentials really allow our paper writing services teachers to self-organize around learning concepts and dig in, and to do the coaching, the modeling, and the feedback around those concepts, deklotz said.