दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन ही बनाएगा पटना में मेट्रो , 2024 तक शुरू हो जाने की संभावना

PATNA : पटना मेट्रो रेल कारपोरेशन बोर्ड की बैठक में इस बात की पुष्टि कर दी गयी है कि पटना में मेट्रो व्यवस्था तैयार करने का काम दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन ही देखेगा। साथ ही इस बात की भी संभावना भी व्यक्त की गयी कि साल 2024 तक पटना में मेट्री चल सकती है यदि समान गति से काम चलता रहा।

बैठक में पटना मेट्रो से जुड़े सभी पक्षों पर लंबी चर्चा हुई। रुपए के इंतजाम, कर्ज लेने, इसे चुकाने, बनाने वाली कंपनी की फीस से लेकर रूट तक की बातें विस्तार से हुईं। । पटना मेट्रो बोर्ड के लिए 191 पदों को मंजूरी भी मिली है । फिलहाल 30 पदों पर बहाली होगी। दो-तीन दिनों में इन तमाम मसलों से संबंधित प्रस्ताव राज्य कैबिनेट की स्वीकृति के लिए जाएगा। बैठक की अध्यक्षता पटना मेट्रो रेल कारपोरेशन बोर्ड के अध्यक्ष चैतन्य प्रसाद ने की। इसमें संजय दयाल, मनोज कुमार समेत अन्य विभागों के नोडल पदाधिकारी मौजूद थे।

परियोजना में पाँच साल लगेंगे और 13,365.77 करोड़ रुपये-

इस परियोजना को तीन चरणों में पूरा करने में पाँच साल लगेंगे और 13,365.77 करोड़ रुपये के अनुमान खर्च के साथ। परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण की लागत राज्य सरकार वहन करेगी। पीएमआरसी के सूत्रों ने कहा कि काम पहले 16.94 किलोमीटर पूर्व-पश्चिम दिशा पर किया जाएगा जो दानापुर को सगुना मोड़, बेली रोड और पटना जंक्शन से मीठापुर बस स्टैंड से जोड़ेगा। दूसरी ओर 14.45 किलोमीटर उत्तर-दक्षिण दिशा से पटना जंक्शन को अशोक राजपथ, गांधी मैदान और राजेंद्र नगर होते हुए बैरिया में प्रस्तावित बस स्टैंड से जोड़ेगा। आपको बता दें कि पहला मेट्रो रेल दानापुर में विकसित किया जाएगा। PMRC के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मेट्रो रेल परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।