मुजफ्फरपुर में इंसेफ्लाइटिस से आज 14 बच्चों की मौत

PATNA:मुजफ्फरपुर से आज एक दर्दनाक एवं हृदय विदारक खबर आयी है | इंसेफ्लाइटिस रोग से प्रभावित 38 बच्चे मुजफ्फरपुर के एक अस्पताल में भर्ती थे जिसमे से 14 बच्चे आज अचानक मृत पाए गये | अस्पताल के चिकित्सकों के मुताबिक इंसेफ्लाइटिस से प्रभावित कुल 38 बच्चे पिछले कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे जिसमे से 14 बच्चों की आज अचानक मौत हो गयी |

इंसेफ्लाइटिस से प्रभावित बच्चे       

केंद्रीय संचारी रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अनुसार उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, असम और बिहार समेत 14 राज्यों में इंसेफ्लाइटिस का प्रभाव है, लेकिन पश्चिम बंगाल, असम, बिहार तथा उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल में इस बीमारी का प्रकोप काफी ज्यादा है।

जानिए क्या है इंसेफ्लाइटिस

जापानी मस्तिष्क ज्वर (इंसेफ्लाइटिस) एक घातक संक्रामक बीमारी है जो फ्लैविवाइरस के संक्रमण से होती है| सर्वप्रथम साल 1871 में इस बीमारी का जापान में पता चला था इसलिए इसका नाम ”जैपनीज इन्सेफ्लाइटिस” पड़ा है| सुअर और जंगली पक्षी मस्तिष्क ज्वर के विषाणु या वायरस के मुख्य स्रोत होते हैं| जैसे ही यह हमारे शरीर के सपंर्क में आता है वैसे ही यह दिमाग की ओर चला जाता है।
दिमाग में जाने के कारण व्यक्ति की सोचन, समझने, देखने की क्षमता खत्म हो जाती है।

यह करीब 90 साल पुरानी जानलेवा बीमारी है, लेकिन अभी तक इसका एंटी वायरल ड्रग उपलब्ध नहीं है।यह एक दिमागी बुखार है। जो कि वायरल संक्रमण की वजह से फैलता है।यह मुख्य रुप से गंदगी में पनपता होता है। जो कि मच्छरों, सुअर के द्वारा फैलता है।
यह बीमारी ज्यादातर 1 से 14 साल के बच्चे एवं 65 वर्ष से ऊपर के लोग इसकी चपेट में आते हैं।