नहीं रहे पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली, आज दोपहर में हुआ निधन

PATNA : आज पूर्व वित्तमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली का निधन हो गया। उन्होंने दिल्ली की एम्स अस्पताल में दोपहर 12 :07 पर अंतिम सांस ली। वो नौ अगस्त से एम्स अस्पताल में भर्ती थे। 66 वर्षीय जेटली को एम्स में पिछले कई दिनों ने जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया था। उनके स्वास्थ्य के बारे में जानने के लिए हाल के दिनों में पीएम मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत कई बड़े नेताओं ने अस्पताल का दौरा किया था।

अरुण जेटली का सितंबर 2014 में बैरिएट्रिक ऑपरेशन हो चुका था। लंबे समय से मधुमेह के कारण वजन बढ़ने की समस्या के निदान के लिए यह ऑपरेशन किया गया था। यह ऑपरेशन पहले मैक्स अस्पताल में हुआ था। अरुण जेटली का जाना पूरे देश के लिए एक बड़ी क्षति है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि अरुण जेटली के न रहने से मैंने अपने परिवार के एक बड़े सदस्य को खो दिया।

वे मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में ट्रबलशूटर रहे। वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और तत्कालीन गृह मंत्री राजनाथ सिंह के बाद सरकार में तीसरे सबसे ताकतवर मंत्री माने जाते थे। गुड्स एंड सर्विसेज टैक्‍स यानी जीएसटी को लागू कराने का श्रेय उन्हीं को जाता है। वे पेशे से वकील थे, लेकिन कानूनी के साथ-साथ वित्तीय मामलों पर पकड़ रखते थे। उनके पास कुछ महीने वित्त के साथ-साथ रक्षा जैसे दो अहम मंत्रालय का प्रभार था। अरुण जेटली 2009 से 2014 तक राज्यसभा में विपक्ष के नेता रहे थे।