गया में टूटी पटरी से गुज़र गई मालगाड़ी, बाल बाल बची मुंबई मेल

PATNA : गया-कष्ठा रेलवे स्टेशन के पास एक बड़ी रेल दुर्घटना होते होते रह गई। जमुने नदी के पास पटरी टूटी हुई थी। इसी टूटी पटरी से कुछ ही देर पहले मालगाड़ी गुजरी थी और मुंबई मेल एक्सप्रेस गुजरने वाली थी। ड्राइवर की सूझबूझ से बड़ा हादसा टल गया। पटरी टूटी देख ड्राइवर ने अचानक ब्रेक लगा दिया और ट्रेन को रोका। ड्राइवर  ने इसकी सूचना रेलवे अधिकारियों को दी जिसके बाद इंजीनियरों की टीम ने वहां पहुँच कर पटरी की मरम्मत की।  इस दौरान करीब आधा घंटा तक ट्रेनों का परिचालन बधित रहा। 

कुछ दिन पहले भी इसी तरह कि घटना सामने आई थी जब छपरा- सोनपुर रेलखंड पर शीतलपुर-नयागांव स्टेशन के बीच टूटी पटरी पर सद्भावना एक्सप्रेस गुजर गई थी। ट्रैक पेट्रोलिंग के दौरान कीमैन की नज़र टूटे ट्रैक पर पड़ी और आनन-फानन में बगल वाले गेटमैन को इसकी सूचना दी गई। सूचना मिलने के बाद इंजीनियरिंग विभाग की टीम स्थल पर पहुंची और टूटी पटरी को ठीक किया गया। एक हफ्ते पहले सीमांचल एक्सप्रेस भी दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी जिसमे बताया जा रहा था कि पटरी की क्षमता से अधिक स्पीड से ट्रेन गुज़र रही थी।

quaint media

 

सीमांचल एक्सप्रेस हादसे में 6 लोगों की जान चली गई थी।मृ’तकों के परिवार वालों लिए बिहार सरकार ने 4 लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की थी जबकि घायलों के लिए 50,000 की सहायता राशि का ऐलान किया था। रेलवे प्रशासन ने भी मुआवजे की घोषणा की थी। घटना में घायल हुए सभी यात्रियों को रेलवे 2 लाख का मुआवज़ा देगी जबकि मृतकों को  5 लाख का मुआवज़ा देने की घोषणा की थी। इसके साथ ही, मामूली रूप से घायलों को 50 हज़ार देने की घोषणा की गई थी। दुर्घटना की जांच सीआरएस लतीफ खान को सौंपी गई थी। हालाँकि अभी तक जांच रिपोर्ट सामने नहीं आई है। लेकिन शुरूआती जांच में बताया गया कि ट्रैक की क्षमता 84 किलोमीटर प्रति घंटे की थी और ट्रेन 107 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से गुज़र रही थी।