मुज़फ्फरपुर के बाद सुपौल में भी दिखा चमकी का असर, चपेट में आए कई मासूम बच्चे

PATNA: चमकी बुखार का असर मुज़फ्फरपुर के बाद अब बिहार के अन्य जिलों में भी दिखाई दे रहा है। सुपौल में अब चमकी बुखार का नया मामला सामने आया है। सुपौल के सदर अस्पताल में कुछ दिन पहले बच्चों को भर्ती कराया गया था। इन बच्चों को प्राथमिक इलाज के बाद डीएमसीएच दरभंगा रेफर कर दिया गया है।

बताया जा रहा है कि सुपौल के त्रिवेणीगंज अनुमंडल क्षेत्र के रायश्री निवासी अनिता देवी की 4 साल की पोती को तेज बुखार आया। परिजन ने बताया कि तेज बुखार के बाद बच्ची का पूरा शरीर चमकने लगा। उसके बाद बच्ची को गांव के ही एक निजी डॉक्टर को दिखाया गया। उन्होंने त्रिवेणीगंज अस्पताल जाने की सलाह दी। जिसके बाद उसे रेफरल अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों ने बिना इलाज के ही उसे सदर अस्पताल रेफर कर दिया।

AES

चमकी बुखार से इस वर्ष बिहार में सैकड़ों बच्चों की मौत हो चुकी है। मुज़फ्फरपुर जिलें में ही 130 से अधिक बच्चे चमकी बुखार के कहर से नहीं बच सके। वहीँ चमकी बुखार को लेकर नीतीश सरकार पर भी विपक्षी दलों द्वारा जमकर निशाना साधा जा रहा है।

वहीँ अब सरकार की इस मामले को लेकर गंभीर नजर आ रही है। शनिवार को केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे दिल्ली से पटना पहुंचे। इस दौरान अश्विनी चौबे ने मीडिया से बात की। अश्विनी चौबे ने कहा कि जिस तरह से चमकी बुखार ने सैकड़ों बच्चों की जान ली है, निश्चित तौर पर इस पर शोध करने की आवश्यकता है। उन्होंने बताया चमकी बुखार पर शोध करने के लिए मुजफ्फरपुर के साथ बिहार के कई जिलों में रिसर्च इंस्टीट्यूट बनाए जाएंगे।