राष्ट्र निर्माण के लिए जरूरी है कि हम अपनी भावी पीढ़ी को बेहतर शिक्षा दें : राज्यपाल लालजी टंडन

PATNA : बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन ने एक समाचार पत्र को दिए इंटरव्यू में कहा कि देश के नव निर्माण के लिए अपने छात्रों को श्रेष्ठ शिक्षा देने की आवश्यकता है। राज्यपाल ने कहा कि सबको शिक्षा उपलब्ध कराने की ज़िम्मेदारी शासन की है। उन्होंने कहा कि जिंदगी के लिए जैसे ताजी और शुद्ध हवा में सांस लेना जरूरी है वैसे ही सभ्य समाज के निर्माण के लिए संस्कारयुक्त शिक्षा भी महत्वपूर्ण है।

बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन

आपको बता दें कि बिहार के राज्यपाल के रूप में लालजी टंडन ने कल अपने कार्यकाल के 300 दिन पूरे कर लिए हैं। लालजी टंडन ने कहा कि इस बार लगभग सभी विश्वविद्यालयों का दीक्षांत समारोह संपन्न करा लिया गया है। जो भी कुलपति छात्रों के हित में काम नहीं करते थे मैंने उन्हें तुरंत निलंबित कर दिया। मगध विश्वविद्यालय की लगातार शिकायतें आ रही थी। इसलिए मैंने कुलपति को  कार्यकाल खत्म होने से पहले ही बर्खास्त कर दिया। लालजी टंडन ने कहा कि मेरा व्यक्तिगत स्तर पर  मानना है कि जो कुलपति हैं, वे संपूर्ण विश्वविद्यालय के प्रति सीधे जिम्मेदार हैं।

बच्चों की मौ’त से बहुत दुखी हूँ- राज्यपाल

लालजी टंडन ने कहा कि बिहार में इस समय विभिन्न जगहों पर बच्चों की हो रही मौ’त से मन आ’हत है। एक विशेषज्ञ अस्पताल और बच्चों के लिए बाल भवन के निर्माण की प्रक्रिया में खुद राजभवन जुटा है। जो शीघ्र बनकर तैयार हो जायेगा। उन्होने कहा कि मुझे बिहार से बहुत लगाव है। मैं उच्च शिक्षा की मजबूत नींव बनाना चाहता हूं । हमने बिहार के शिक्षा जगत के मानकीकरण पर फोकस किया। साथ ही राज्यपाल ने कहा कि विश्वविद्यालयों की स्थिति में सुधर करने के लिए मैं प्रतिबद्ध हूँ। गैरज़रूरी कानूनों को समाप्त कर छात्रहित पर मेरा पूरा ध्यान केंद्रित है।