बेरोजगार युवकों के लिए सरकारी नौकरी का सुनहरा अवसर, बिहार में 10 हजार सिपाहियों की होगी भर्ती

PATNA  : राज्य सरकार की योजना के अनुसार हर साल कम-से-कम 10 हजार सिपाहियों की भर्ती होनी है। जिसको लेकर सरकार पुरी मशक्कत कर रही है कि अगले दो-तीन सालों में बिहार पुलिस में सिपाहियों की कमी खत्म हो जायेगी। साथ ही भर्ती प्रक्रिया को और बेहतर और पारदर्शी बनाने के लिए भी लगातार काम किया जा रहा है।
 ऐसे तमाम बिंदुओं को लेकर मुख्य सचिव दीपक कुमार ने पुलिस मुख्यालय और गृह विभाग के पदाधिकारियों के साथ विचार विमर्श किया। पिछले हफ्ते ही दारोगा भर्ती प्रक्रिया पर सवाल खड़े करते हुए हाईकोर्ट ने मुख्य परीक्षा का रिजल्ट रद्द कर दिया था।सूत्रों ने बताया कि पुलिस में भर्ती प्रक्रिया में किसी तरह की कमी न रह जाये, इस पर चर्चा हुई। भर्ती प्रक्रिया को बेहतर तरीके से अंजाम देने के लिए दिशा-निर्देश जारी किये गये, ताकि भविष्य में कोर्ट को हस्तक्षेप न करना पड़े। दारोगा भर्ती प्रक्रिया को उदाहरण के रूप में लिया गया है।
एडीजी मुख्यालय के एसके सिंघल ने बताया कि  सरकार की योजना अगले दो-तीन सालों में पुलिस में स्टाफ की कमी खत्म करना है। इसलिए हर साल भर्ती करने का निर्णय लिया गया है। सिपाहियों के 999 पदों को लेकर 25 नवंबर और दो दिसंबर को परीक्षा भी है।
साथ ही हाल ही में दारोगा भर्ती परीक्षा को लेकर आये पटना हाईकोर्ट के निर्णय और पटना पुलिस लाइन वाली घटना को लेकर भी सरकार सचेत हो गयी है। इसलिए भर्ती प्रक्रिया से लेकर पुलिस प्रशिक्षण तक पर खास ध्यान है। इसी क्रम में पुलिस लाइन में सिपाहियों का उपद्रव हो गया। इसको मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गंभीरता से लिया है। सोमवार को पुलिस के आला अधिकारियों के साथ इसको लेकर बैठक भी हुई थी। फिर जाके मंगलवार को मुख्य सचिव दीपक कुमार ने अपने चैंबर में पुलिस और गृह विभाग के अधिकारियों के साथ चर्चा की।

The post बेरोजगार युवकों के लिए सरकारी नौकरी का सुनहरा अवसर, बिहार में 10 हजार सिपाहियों की होगी भर्ती appeared first on Mai Bihari.