महागठबंधन में वामदलों की नहीं गली दाल, 15 सीटों पर उतार सकते हैं अपने उम्मीदवार

PATNA : बिहार में महागठबंधन में छोटे दलों के बीच लगातार विवाद बढ़ता ही जा रहा है। सीटों के बंटवारे को लेकर जहाँ आरजेडी और कांग्रेस अभी तक सहमति नहीं बनाई पाई हैं वहीँ छोटे दलों को भी ज्यादा सीटों के चलते कड़े तेवर दिखाने पड़ रहे हैं। अब खबर आ रही है कि महागठबंधन से वामपंथी दलों ने किनारा करने का मन बना लिया है।

इसे भी पढ़ें : महागठबंधन में सीटों के बंटवारे पर बढ़ा विवाद, RJD ने कांग्रेस से कहा 13 तक स्थिति साफ करे

महागठबंधन में आरजेडी और कांग्रेस पार्टी द्वारा वामदलों को ज्यादा तवज्जो नहीं दिए जाने पर चर्चा होने लगी है कि वामदलों ने गठबंधन से अलग होने का मन बना लिया है। भाकपा, माकपा और भाकपा माले ने अपना रुख साफ़ कर दिया है कि आगे का निर्णय अब आरजेडी को करना है। बताया जा रहा है कि वामदल से आरजेडी की बातचीत हो चुकी है। वहीँ महागठबंधन से सीटों की सहमति नहीं बनी तो वामपंथी दल बिहार में 15 से ज्यादा सीटों पर अपने प्रत्याशी चुनावी मैदान में उतारेंगे।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives Live Bihar, Live Bihar, Live India

महागठबंधन पर माकपा के राज्य सचिव अवधेश कुमार ने वर्तमान परिस्थिति को लेकर कहा है कि “लोकसभा चुनाव की तारिख नजदीक है लेकिन वामदलों के साथ सीट बंटवारे को लेकर महागठबंधन गंभीर नहीं दिख रहा है। इसमें देरी ठीक नहीं है। अगर महागठबंधन से किसी तरह से चुनावी तालमेल नहीं हुआ तो पार्टी तीन सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेगी।”

वहीँ भाकपा के सचिव सत्य नारायण सिंह ने भी कड़े लहजे में कहा कि अगर बीजेपी को हराना है तो ‘लेफ्ट-सेक्युलर एलायंस’ बहुत जरूरी है। लेकिन आरजेडी से कई दौर की बातचीत हुई है पर सीट शेयरिंग पर कोई संकेत नहीं मिला। पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व के निर्देश पर हम पहले से 6 सीटों पर अपने प्रत्याशी चुनावी मैदान में खड़ा करने की तैयारी में जुटे हुए हैं।