हृदय रोग होने का एक मुख्य कारण है लंबी नींद, जानिए इस से बचने के उपाय

Patna: भारत में कुल 3 करोड़ से भी ज्यादा लोग हृदय रोग के मरीज़ है। दुनिया भर में हृदय रोग को मौत का सबसे बड़ा कारण बताया जाता है। जहां हर दिन कई लोगों की जान भी चली जाती है। ऐसे में इस से बचने के लिए चीन के मैकमास्टर एंड पीकिंग यूनियन मेडिकल कॉलेज की एक रिसर्च में ये बात सामने आई है की जरूरत से ज्यादा नींद लेने से हृदय रोग का खतरा बंढ सकता है। साथ ही शरीर से जुड़ी कई ऐसी स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती है।

दरसल चीन के मैकमास्टर एंड पीकिंग यूनियन मेडिकल कॉलेज ने अपने शोध में 21 देशों के 11,700 लोगों को शामिल किया। जिनकी उम्र 35 से 70 साल के बीच थी। इसमें पता चला कि ऐसे 1000 लोग जिन्होंने हर रात 6-8 घंटे की नींद ली, उनमें से 7.8% लोगों में हृदय रोग (स्ट्रोक या हार्ट फेल्योर) के मामले देखे गए। वहीं, ऐसे 1000 लोग जो 8-9 घंटे सोए, उनमें 8.4% और 9-10 घंटे नींद लेने वालों में 10.4% लोग हृदय रोग से जूझते देखे गए।

तो वहीं इस पर मैकमास्टर एंड पीकिंग यूनियन मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर चुआंगशी वांग ने बताया कि ज्यादा नींद लेने का हृदय रोग होने और मौत का खतरा होने से संबंध इस आधार पर तय किया गया कि शरीर से जुड़ी कई ऐसी स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं जो इंसान को लंबी नींद लेने के लिए उकसाती हैं। जहां दुसरी ओर ब्रिटिश हार्ट फाउंडेशन की सीनियर कार्डियक नर्स जूली वार्ड ने बताया कि रिसर्च से जुड़ी बातें काफी दिलचस्प हैं, लेकिन यह हृदय रोग और मौत या शरीर पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव के कारणों को साबित नहीं कर पातीं।

आपको बता दें कि वल्र्ड हार्ट फेडरेशन के मुताबिक एक साल में हृदय रोग के कारण लगभग 1।75 करोड़ लोगों की मौत हो जाती है। इनमें से करीब 67 लाख लोगों की मौत स्ट्रोक से होती है जबकि कोरोनरी हृदय रोग के कारण 74 लाख लोग अपनी जान गंवाते हैं। इस से बचने के लिए अवीवा लाइफ इंश्योरेंस की मुख्य ग्राहक विपणन और डिजिटल अधिकारी अंजली मल्होत्रा ने व्यस्त जीवन में हृदय समस्याओं को रोकने के लिए पांच सरल और स्मार्ट तरीके सुझाए हैं। जिस में नियमित रूप से व्यायाम करना, स्वास्थ्यवर्धक आहार, शरीर का वजन कम करना, धूम्रपान और शराब पर नियंत्रण रखना, और तनाव स्तर की जांच करना शामिल है।

The post हृदय रोग होने का एक मुख्य कारण है लंबी नींद, जानिए इस से बचने के उपाय appeared first on Mai Bihari.