अगर मेरी सरकार बनी तो बेरोजगारी भत्ता तबतक दूंगा जबतक रोजगार नहीं- हेमंत सोरेन

Patna:  झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मुख्यमंत्री रघुवार दास को राज्य में बेरोजगारी के लिए जिम्मेवार ठहराया। सोरेन ने कहा कि झारखंड में बेरोजगारी बीमारी की तरह फैल रही है। राज्य के युवाओं को वर्तमान झारखंड सरकार और रघुवर दास ने अपनी झूठी वादों से ठगा है। सोरेन ने युवाओं से वादा किया है कि अगर उनकी सरकार बनती है तो राज्य के सभी युवाओं को 100 प्रतिशत रोजगार दिया जायेगा। अगर रोजगार नहीं दे पाया तो सभी बेरोजगार युवाओं को तबतक बेरोजगारी भत्ता दूंगा, जबतक उसे रोजगार ना दे दूं।

गौरतलब है कि एनएसएसओ के आकड़ों के अनुसार भारत में बेरोजगारी दर पिछले 45 सालों में सबसे अधिक है। चूंकि भाजपा की ही सरकार झारखंड में भी है, इसलिए भी विपक्ष, इन आकड़ो का इस्तेमाल चुनावी समय में कर सकते हैं। इतना ही विपक्ष लगातार रघुवर सरकार की आलोचना करने में जुटी है, इसके लिए पिछले साढे चार में की गयी कामों से कमियों को निकालकर सरकार पर हमलावर है।

आपको बता दें कि झारखंड में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है और रघुवर दास वहां के पहले गैर-आदिवासी मुख्यमंत्री बने हैं। हालांकि झारखंड में सबसे ज्यादा भाजपा और झारखंड मुक्ति मोर्चा की ही सरकार रही है। हेमंत सोरेन, झारखंड के पांचवें मुख्यमंत्री थे। इन्हीं को हराकर रघुवर दास झारखंड के छठे मुख्यमंत्री बने हैं। इनका भी कार्यकाल बहुत जल्द ही पूरा होने वाला है। राज्य में विधानसभा चुनाव नजदीक है, इसलिए अब नेताओं द्वारा जनता को लुभाने का दौर शुरु हो चुका है।

कौन हैं हेमंत सोरेन-

वे सबसे कम उम्र में मुख्यमंत्री बनकर रिकार्ड बनाये थे। इससे पहले वो अर्जुन मुंडा के मंत्रिमण्डल में उप मुख्यमंत्री थे। 2014 के चुनाव में वे भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार हेमलाल मुरमू को 24087 वोटों के अंतर से हराकर निर्वाचित हुए थे। वे वर्तमान में झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) अध्यक्ष हैं। आपको बता दें कि झारखंड मुक्ति मोर्चा का नेतृत्व पूरी तरह से आदिवासियों के हाथ में है।