मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति पर पटना उच्च न्यायालय ने दस हज़ार रुपये का लगाया जु’र्माना

PATNA : दो अलग-अलग मामलों में पटना उच्च न्यायालय ने मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति पर अवमानना करने के आरोप में जुर्मा’ना लगाया है। दो मामलों में अदालत ने कुलपति पर पाँच-पाँच हजार रुपये का ज़ुर्मा’ना लगाया है। एक ही दिन दो मामलों में एक ही कुलपति के खिलाफ जु’र्माना किया गया।

विश्वविद्यालय की एक शिक्षिका को रिटायरमेंट व अन्य लाभ दिए जाने के मामले में हाई कोर्ट के आदेश का पालन नहीं हुआ था, परिणाम स्वरूप शिक्षिका ने अवमानना वाद दायर किया। उक्त मामले को दायर हुए तीन साल बीत गए, लेकिन विश्वविद्यालय प्रशासन की तरफ से कारण बताओ नोटिस का जवाब तक दायर नहीं हुआ। इसी विषय पर आज उच्च न्यायालय ने सुनवाई की और आरोपितों पर कार्रवाई करते हुए अदालत ने कुलपति पर जुर्माना लगाया है।

याचिकाकर्ता के वकील रतन कुमार कुंवर ने कोर्ट को बताया कि कई अन्य पुराने अवमानना मामलों में भी मिथिला यूनिवर्सिटी का रुख लापरवाही भरा रहा है। एडवोकेट कुंवर ने एक अन्य याचिकाकर्ता मुजीबुर्रहमान के मामले में कोर्ट को बताया कि पहले भी एक विषय पर मिथिला विश्विद्यालय की तरफ से भ्रामक जवाब दायर किया गया था।

इससे पहले अदालत ने मिथिला विश्विद्यालय को आदेश दिया था कि शिक्षिका को रिटायरमेंट व अन्य लाभ जल्द से जल्द दिये जाय। लेकिन विश्वविद्यालय प्रशासन ने इस आदेश को गंभीरता से नहीं लिया और कारण बताओ नोटिस जारी होनेके बाद भी संतोषजनक जवाब नहीं दिया। जिस पर आज न्यायालय को कार्रवाई करनी पड़ी।