तीर्थ दर्शन योजना के तहत सरकार देगी गरीबों को तीर्थयात्रा का अवसर

Patna : एक समय बाद किसको मन नहीं करता की वो भगवान् के दर्शन करे। ये ज्यादा ख्याल तब आता है। जब इंसान अपनी सारी जिंदगी काम कर चूका रहता है , वो चाहता है की वो अब भगवान के दर्शन करने तीर्थ स्थान जाए। लेकिन बात होती है पैसों की तीर्थ स्थल पर जाने के लिए काफी पैसो की जरूरत भी होती है।

मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में अब तक प्रदेश में ढाई लाख बुजुर्ग को तीर्थ-यात्रा करवाई जा चुकी है।सरकार वर्तमान वर्ष में इस योजना के तहत करीब सवा लाख बुजुर्गों को तीर्थ-यात्रा करवाएगी।योजना के तीर्थ-स्थलों में अब अयोध्या, मथुरा, प्रयाग, गंगासागर, सेंट थामस चर्च केरल और संत कबीर के जन्म-स्थान लहरतारा को भी शामिल किया जाणएगा। सरकार का कहना है की विशेष पैकेज में ये सब सुविधा दी जाएगी।मुख्यमंत्री इस योजना की खुद मॉनीटरिंग कर रहे हैं। उन्होंने इसे लेकर अफसरों को भी कहा है कि योजना को और बेहतर बनाने की कोशिशें लगातार की जाएं।

tirth stahal

यात्रियों को तीर्थ-यात्रा के दौरान दिए जाने वाले भोजन तथा अन्य सुविधाओं की गुणवत्ता की जांच समय-समय पर की जाए। पर्यटक मंत्री प्रमोद कुमार ने कहा की पैसों की लागत से बहुत से गरीब तीर्थ स्थल नहीं जा पाते हैं। इनसब को देखते हुए ये फैसला लिया गया है। उन्होंने कहा कि तीर्थ-यात्रा पर जाने वाले की सुरक्षा पर विशेष ध्यान दिया जाए। यात्रा के दौरान ट्रेन में चिकित्सक की व्यवस्था रहे। इस बात के प्रयास हों कि यात्रा के दौरान मंत्री या मंत्री स्तर के निगम-मंडलों के पदाधिकारी भी जाएं।

इतना ही नहीं उन्होंने बताया की इस बार पीएम पैकेज से महात्मा गाँधी सर्किट का निर्माण हो रहा है। इसपर 44करोड़ की लगत रखी गयी है। मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में नि:शक्त जनों के लिये उम्र का बंधन शिथिल करने का निर्णय भी लिया गया। मुख्यमंत्री ने समयानुसार सुविधाओं की दृष्टि से यात्रा को और अधिक बेहतर बनाने के लिए विचार-विनिमय कर बदलाव करने के निर्देश दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *