भारत ने रोका पाकिस्तान जाने वाली तीन नदियों का पानी, केंद्रीय जल संसाधन राज्य मंत्री का ऐलान

PATNA : केन्द्रीय जल संसाधन राज्य मंत्री अर्जुन मेघवाल ने बताया है कि भारत ने पाकिस्तान जाने वाली तीन नदियों ब्यास, रावी और सतलज का पानी (Indus Water Treaty) रोक दिया है । इन नदियों के पानी  को संगृहीत किया जा रहा है और जरूरत पड़ने पर राजस्थान और पंजाब को दिया जाएगा। अब पंजाब और राजस्थान सिंचाई और पेयजल के लिए इन नदियों के पानी का इस्तेमाल कर सकते हैं। केन्द्रीय मंत्री ने बीकानेर में मीडिया को इस बात की जानकारी दी। तीन नदियों के 0.53 मिलियन एकड़ फीट पानी को रोका गया है। 

14 फ़रवरी को पुलवामा में हुए आ’तंकी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान पर कड़े कारवाई के लिए तीन नदियों के पानी को रोकने की बात कही थी। केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी कहा था कि भारत अपने हिस्से का पानी पाकिस्तान को नहीं देगा। भारत और पाकिस्तान के मध्य 1960 में सिन्धु जल समझौता हुआ था। लेकिन भारत ने अपने हिस्से का पानी रोका है इसलिए इससे इस समझौते का कोई उल्लंघन नहीं होता है। क्योंकि भारत को अधिकार है कि वो अपने हिस्से का पानी खुद इस्तेमाल कर सके।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives Live Bihar, Live Bihar, Live India

सिन्धु जल समझौता  : भारत और पाकिस्तान के बीच 1960 में सिन्धु जल समझौता हुआ था। इस समझौते के अनुसार पाकिस्तान सतलज, रावी और व्यास नदी का पानी इस्तेमाल कर सकता था। इस समझौते के अनुसार भारत को 3.3 करोड़ एकड़ फीट पानी मिला है जबकि पाकिस्तान को 80 एमएएफ पानी दिया गया है। लेकिन विवाद यहाँ खड़ा होता है कि पाकिस्तान को भारत से ज्यादा पानी मिलता है जिसके कारण भारत में सिंचाई के लिए समुचित पानी नहीं मिल पाता। भारत पाकिस्तान के रिश्तों में जब भी तनाव आता है तो इस सम्जहुते को रद्द करने की चर्चाएँ चलती है लेकिन इस बार पुलवामा में हुए आ’तंकी हमले और उसके बाद भारत द्वारा पाकिस्तान में आ’तंकी ठिकानों पर एयर स्ट्राइक के बाद हालत ज्यादा ही तनावपूर्ण हो गए थे।