दशहरा कार्यक्रम से भाजपा ने बनाई थी दूरी, अब BJP के भरत मिलाप कार्यक्रम से JDU नेता रहे गायब

PATNA : बिहार NDA में आपसी मतभेद फिलहाल कम होते नहीं दिख रहे हैं। राजधानी पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में आयोजित दशहरा कार्यक्रम से भाजपा के नेता गायब रहे थे, तो इसके बदले में भरत मिलाप कार्यक्रम से जदयू के नेताओं ने दूरियां बना ली जबकि इसमें भाजपा के नेता शामिल थे।

रामलीला कार्यक्रम आयोजन के समापन कार्यक्रम में जेडीयू के नेता नदारद रहे। यही नहीं, मामला इतना आगे बढ़ा कि श्री दशहरा कमिटी ट्रस्ट के अध्यक्ष और जेडीयू नेता कमल नोपनी भी कार्यक्रम से दूर रहे। बता दें कि भरत मिलाप कार्यक्रम में जेडीयू महासचिव और उद्योग मंत्री श्याम रजक को न्योता मिला था। इस कार्यक्रम का शुभारंभ केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने किया था।

कार्यक्रम से अनुपस्थित रहने पर जेडीयू नेता श्याम रजक ने कहा कि हर जगह समय के हिसाब से आना-जाना होता है और नेताओं को बहुत से आमंत्रण मिलते हैं। हर जगह जाना संभव नहीं होता है। शादी समारोह से लेकर श्राद्ध का भी निमंत्रण मिलता है इसलिये कई जगह शिरकत नहीं कर पाता हूं।इससे पहले दशहरा पर ‘रावण वध’ का कार्यक्रम आयोजित किया गया था लेकिन इस पूरे कार्यक्रम से भाजपा दूर रही थी। सीएम नीतीश के बेहद करीबी माने जाने वाले उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की कुर्सी भी खाली रही।

पिछले कई दिनों से भाजपा और जदयू के नेताओं में आपसी तकरार दिख रही है।बाढ़ के मुद्दे पर भाजपा और जदयू के बीच म’तभेद साफ साफ दिखे। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार इसे प्राकृतिक आपदा बताते रहे हैं तो केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने इसके लिए सीधे तौर पर सीएम नीतीश को जिम्‍मेदार माना है। यही नहीं पूरे एनडीए की तरफ से जनता से माफी मांग उन्‍होंने जेडीयू की जिम्‍मेदारी भी तय करने की कोशिश की थी।