तीन तलाक बिल पर सदन से जदयू ने किया वाकआउट, नेता ललन सिंह ने किया विरोध

PATNA : एनडीए की सहयोगी जनता दल यूनाइटेड ने इस बिल का विरोध करते हुए सदन से वॉकआउट कर दिया। जदयू के सांसद ललन सिंह ने इस विधेयक को अविश्वास पैदा करने वाला बताया। उन्होंने इसके विरोध में कई तर्क दिए और कहा कि JDU शुरू से ही इस बिल का विरोध कर रही है।

ललन सिंह ने चर्चा में हिस्सा लेते हुए कहा कि तीन तलाक बिल समाज के मन में अविश्वास और गलत तरह की भावना पैदा करता है। संसद कानून बनाकर पति-पत्नी के रिश्ते को तय नहीं कर सकती। यह समाज सिर्फ संविधान से नहीं चलता है बल्कि परंपराओं और रीति रिवाजों से भी चलता है। JDU की तरफ से सांसद ललन सिंह ने इस बिल का विरोध करते हुए सदन में और भी जोरदार तर्क रखे। आपको बता दें कि तीन तलाक के मुद्दे पर जदयू शुरू से भाजपा से अलग विचार रखती है। जदयू ने इसे धर्म का हिस्सा बताकर हस्तक्षेप करने से मना किया है।

रविशंकर प्रसाद ने लोकसभा में पेश किया विधेयक-

आपको बता दें कि नरेन्द्र मोदी की सरकार ने मुस्लिम महिलाओं को गरिमामय जीवन जीने का अधिकार देने के लिए तीन तलाक पर कानून बनाने जा रही है। मोदी सरकार ने तीन तलाक पर कानून बनाने के लिए लोकसभा में विधेयक पेश किया है। इस विधेयक का नीतीश कुमार और उनकी पार्टी के नेताओं ने शुरु से ही विरोध किया है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तीन तलाक के मुद्दे पर एक बार पहले ही जदयू का स्टैंड साफ कर दिया था। उन्होंने कहा था कि तीन तलाक का मुद्दा सीधे तौर पर अल्पसंख्यक समाज से जुड़ा है। वहां अगर कोई गड़बड़ी है तो उसे सुधारने की जिम्मेदारी अल्पसंख्यक समाज पर ही छोड़ दी जानी चाहिए। बता दें कि दोनों पार्टियां तीन तलाक के मुद्दे पर एक-दूसरे के विपरीत विचार रखती है।