NDA से शिवसेना के बाहर जाने पर जदयू ने एक कोआर्डिनेशन कमेटी बनाने की उठाई मांग

PATNA : भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना की 30 साल पुरानी दोस्ती टूट गई है। इसका असर बिहार में भी देखने को मिल रहा है। इस बीच जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने एक समन्वय समिति बनाने की मांग की है जो सभी दलों के बीच आम सहमति बनाने की कोशिश करेगी।

केसी त्यागी ने कहा कि इससे घटक दलों के बीच आपसी टकराव कम होगा। उन्होंने कहा कि बीजेपी हर चुनाव अपने बलबूते लड़ना चाहती है और वह घटक दलों का साथ नहीं चाहती है। यही कारण है कि झारखंड चुनाव में भी बीजेपी अकेले लड़ रही है।

केसी त्यागी का मानना है कि सभी घटक दलों को संयुक्त घोषणा पत्र तैयार करना चाहिये। जेडीयू नेता श्याम रजक ने केसी त्यागी के बयान का समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि केसी त्यागी ने सही राय दी है। इससे एनडीए में फर्क पड़ेगा। गठबंधन में कुछ न कुछ हुआ है और चर्चा करने की जरूरत है। मजबूती के लिए यह जरुरत है। सभी दलों को परस्पर सहयोग की भावना से काम करना चाहिये।

उल्लेखनीय है कि महाराष्‍ट्र में विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी को स्‍पष्‍ट बहुमत नहीं मिला। इसके बाद वहां सरकार बनाने के लिए जारी खींचतान के बीच राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया है। शिवसेना ने बीजेपी पर गठबंधन तोड़ने का आरोप लगाया है। साथ ही यह भी कहा है कि उसकी महाराष्ट्र में सरकार बनाने को ले कांग्रेस व एनसीपी से बातचीत जारी है।