जीतनराम ने महागठबंधन में टूट से किया इंकार, कहा-भाजपा को हराने के लिए महागठबंधन को सशक्त करेंगे

PATNA: हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतनराम मांझी का कहना है कि लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद महागठबंधन के नेता एक-दूसरे पर आ’रोप लगा रहे हैं। यही कारण है कि महागठबंधन ने नेताओं और पार्टियों के बीच थोड़ा-बहुत मन-मुटाव हो गया है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि महागठबंधन में टूट पड़ गयी है क्योंकि हमलोगों का मुख्य मुद्दा भारतीय जनता पार्टी के खि’लाफ ल’ड़ना है और उसे सत्ता से हटाना है, जिसका प्रमुख कारण यह है कि यह पार्टी संवैधानिक संगठनों पर प्र’हार और जनता में भ्र’म का वातावरण तैयार करने का काम की है।

Mahagthbandhan in Bihar
मांझी महागठबंधन में फूट की बात से मुकर गये-

उन्होंने पहले कहा था कि महागठबंधन में फूट पड़ रही है, लेकिन अब कह रहे हैं कि महागठबंधन में कोई फूट नहीं पड़ रही है। जब इन विरो’धावासी बयानबाजी पर जीतनराम मांझी से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि यह सच है कि लोकसभा चुनाव में हा’र के बाद महागठबंधन के नेता हार’ने का आरोप एक-दूसरे पर लगा रहे हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि महागठबंधन में फूट पड़ने वाली है। उन्होंने कहा कि महागठबंधन के नेता आपस में हा’र की समीक्षा कर रहे हैं, विचार-विमर्श चल रहा है।

भाजपा को हरा’ने के लिए भी महागठबंधन का अस्तित्व होना जरुरी है-

इतना ही नहीं, उन्होंने कहा कि भाजपा को हरा’ने के लिए भी महागठबंधन का अस्तित्व होना जरुरी है क्योंकि कोई भी पार्टी अभी अकेले इस तरह का काम नहीं कर सकती है। अभी महागठबंधन के नेता अलग-अलग समीक्षा बैठक कर रहे हैं। अभी फिलहाल संयुक्त रुप से महागठबंधन की सभी पार्टियां हा’र की समीक्षा नहीं की है। जब संयुक्त रुप से हा’र की समीक्षा होगी तो वास्तिवकता का पता चल जायेगा और महागठबंधन के नेता आपस में आ’रोप-प्र’त्यारोप नहीं करेंगे।

ईवीएम को है’क कर लिया गया था-

हार के कारणों की गिनती कराते हुए मांझी ने कहा कि हा’र के प्रमुख कारणों में पहला है, कम्युनिस्ट पार्टी को एक सीट देना था, जिसे नहीं दिया गया। दूसरा कारण यह है कि लोकसभा चुनाव के टिकट बंटवारे में देरी हुई और जनता की मूलभावना को समझने में चुक होना। इतना ही नहीं, उन्होंने कहा कि महागठबंधन की कमजोरियों के अलावा भाजपा का ष’ड्यंत्र भी हा’र के लिए जिम्मेदार है क्योंकि ईवीएम को है’क कर लिया गया था।