पाकिस्तान की भाषा बोल रहे अभिनेता कमल हासन, कश्मीर में की जनमत संग्रह कराने की मांग

PATNA : पुलवामा में CRPF के जवानों पर हुए आतंकी हमले के बाद पुरे देश में गम और गुस्से की लहर है लेकिन लगता है कुछ लोगों को इसकी कोई परवाह नहीं है। उन्ही लोगों में से एक है अभिनेता कमल हासन। अभिनेता से नए नए राजनीतिज्ञ बने कमल हासन ने कश्मीर में जनमत संग्रह की मांग कर दी। गौरतलब है कि पाकिस्तान भी लम्बे समय से कश्मीर में जनमत संग्रह की मांग करता रहा है। कमल हासन यहीं तक नहीं रुके बल्कि पाक अधिकृत कश्मीर को आज़ाद कश्मीर भी कह गए। 

चेन्नई में एक कार्यक्रम के दौरान जब उनसे पुलवामा आतंकी हमले पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा “अगर भारत ये साबित करना चाहता है कि वो एक बेहतर देश है तो उसे कश्मीर में जनमत संग्रह कराना चाहिए। भारत को किस बात का डर है? हमें लोगों से पूछना चाहिए कि वो क्या चाहते हैं? ताकि हमें कश्मीर के लोगों के मन की बात पता चल सके। उनके इस बयान के बाद विवाद खड़ा हो गया है और सोशल मीडिया पर कमल हसन निशाने पर आ गए हैं। उन्होंने कहा कि दुःख होता है जब लोग कहते हैं कि सेना तो कश्मीर में मरने के लिए ही जाते हैं। सेना पुराने फैशन की तरह है। जब दुनिया में बदलाव हो रहा है तो हम यह कैसे तय कर सकते हैं कि इंसान एक-दूसरे की हत्या खाने के लिए कर रहा है। क्या पिछले 10 सालों में ऐसा कुछ नहीं देखा गया। एक वक्त आएगा, जब लड़ाई खत्म कर दी जाएगी।”

QUAINT MEDIA

इससे पहले क्रिकेटर से राजनीतिज्ञ बने नवजोत सिंह सिद्धू भी पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान के प्रति नरमी दिखाने के कारण आलोचना झेल चुके हैं और उन्हें कपिल शर्मा के टीवी शो से भी बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था। कमल हासन ने अभी अभी अपनी नई राजनितिक पार्टी शुरू की है। ऐसे वक़्त में जब पुरे देश में भावनात्मक ज्वार आया हुआ है और पाकिस्तान को सबक सिखाने की मांग की जा रही है, पाकिस्तान की भाषा बोलना सैनिकों के साथ साथ देशवासियों के मनोबल को भी तोड़ सकता है।