पूर्वी चंपारण के कौशल किशोर ने सलमान की फिल्म ‘नोटबुक’ में लिखे गीत, YOUTUBE पर कर रहा ट्रेंड

Patna: बिहार के पूर्वी चंपारण के कौशल किशोर के गाने आज इंटरनेट की गलियों में खूब ट्रेंड कर रहा है। कौशल ने सलमान खान के प्रोडक्शन में बनी फिल्म ‘नोटबुक’ के दो गाने लिखे हैं। जिसमें ‘बुमरो बुमरो’ और ‘सफर में हूं खोया नहीं’ जैसे गाने शामिल है।

तो वहीं कौशल किशोर के शब्द देश-दुनिया में गूंज रहे हैं। कौशल ने सलमान खान के प्रोडक्शन में बनी फिल्म ‘नोटबुक’ के दो गाने लिखे हैं। ‘बुमरो बुमरो’ और ‘सफर में हूं खोया नहीं’ इंटरनेट की गलियों में खूब ट्रेंड कर रहा है। ‘बुमरो-बुमरो’ को यू-ट्यूब पर दो करोड़ से ज्यादा लोग देख चुके हैं। वहीं ‘सफर में हूं खोया नहीं’ गाने की खुद सलमान खान ने तारीफ करते हुए उसे टे्विटर पर टैग किया है।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd, archives Live Bihar Live India

कौशल कहते हैं, सलमान खान का फेवरेट ‘बुमरो-बुमरो’ कश्मीर का लोकगीत है। गाने में ‘ठान-ठान ले बदलेगा मंजर’ जैसे शब्द कभी न हार मानने की प्रेरणा देते हैं। गानों के साथ-साथ कौशल डायलॉग भी लिखते हैं। कौशल की कलम स्वच्छता का संदेश भी दे रही है। दूरदर्शन पर इसी विषय पर केंद्रित मनोज वाजपेयी की अगुवाई में आ रहे सीरियल ‘सफर मंजिलों का’ में कौशल ने 15 गाने लिखे हैं, जिसे आवाज शंकर महादेवन ने दी है। अभी कौशल नसीरुद्दीन शाह, संजय मिश्रा और सुशांत सिंह राजपूत जैसे कलाकारों के साथ काम कर रहे हैं। इन फिल्मों में लिखे उनके गाने जल्द ही अरिजीत सिंह, मीका सिंह और नेहा कक्कड़ की आवाज में सुनने को मिलेंगे।

आपको बता दें कि कौशल की शुरुआती पढ़ाई पटना से हुई है। इसके बाद 2016 में उन्होंने मुंबई का रुख कर लिया। फिल्म नोटबुक के विषय में बात करते हुए कौशल कहते हैं, मैंने मायानगरी में रहते हुए काम तो बहुत किए मगर असली पहचान नितिन कक्कड़ की फिल्म ‘नोटबुक’ से मिली। मेरे शब्दों की कद्र करने के लिए म्यूजिक डायरेक्टर विशाल मिश्रा का तहेदिल से शुक्रिया। सलमान भाई के लिए क्या कहूं, सच में वो बहुत मददगार हैं। फिल्म में काम करने के दौरान मुलाकात में उन्होंने मेरे अंदर सकारात्मक ऊर्जा भरी।