एफआईआर के विरोध में कार्यकर्ताओं संग गिरफ्तारी देने कोतवाली पहुंचे रालोसपा नेता उपेंद्र कुशवाहा

PATNA: आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा पटना के कोतवाली थाना में अपनी गिरफ्तारी देने पहुंचे। उपेंद्र कुशवाहा के साथ उनकी पार्टी आरएलएसपी के कई कार्यकर्ता भी कोतवाली थाना पहुंचे। 2 फरवरी को हुए आक्रोश मार्च के बाद पुलिस ने उपेंद्र कुशवाहा और 250 अज्ञात आरएलएसपी कार्यकर्ताओं पर एफआईआर दर्ज किया था। इस एफआईआर के विरोध में उपेंद्र कुशवाहा अपने समर्थकों के साथ गिरफ्तारी देने थाना पहुंचे। इस दौरान आरएलएसपी के कार्यकर्ताओं और पुलिस प्रशासन के बीच झड़प की खबर भी सामने आ रही है।

इससे पहले उपेंद्र कुशवाहा ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि अगर 8 फ़रवरी तक पुलिस मुक़दमे वापस नहीं लेगी तो 9 फ़रवरी को आरएलएसपी के कार्यकर्ता कोतवाली थाने में अपनी गिरफ्तारी देंगे और जेल भरो आन्दोलन भी चलाएंगे। इसी के साथ उपेंद्र कुशवाहा ने अपने ऊपर हुए हमले और लगाए गए आरोपों की जाँच के लिए हाईकोर्ट के जज के निर्देश में कमिटी बनाने की मांग भी की थी।

Quaint Media

गौरतलब है कि बीते 2 फ़रवरी को आक्रोश मार्च के दौरान आरएलएसपी कार्यकर्ताओं और पुलिस में झड़प हो गई थी जिसके बाद पुलिस ने आरएलएसपी कार्यकर्ताओं पर लाठी जार्च किया था। लाठीचार्ज में उपेंद्र कुशवाहा समेत कई आरएलएसपी कार्यकर्ता घायल हो गए थे। इसी मामले में उपेंद्र कुशवाहा समेत 250 कार्यकर्ताओं को आरोपी बनाते हुए पटना के कोतवाली थाने में सबके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। बता दें कि लाठीचार्ज के खिलाफ आरएलएसपी ने 4 फ़रवरी को बिहार बंद का आह्वान किया था जिसे राजद और वामदलों समेत महागठबंधन के सभी दलों ने अपना समर्थन दिया था। राज्य में बंद का मिला जुला असर देखने को मिला था।

अस्पताल से घर पहुँचते ही उपेंद्र कुशवाहा ने विरोधियों पर ट्वीट के जरिये हमला किया और कहा कि खुदा का शुक्र है, अस्पताल से घर वापस आ गया, अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करने वाले सभी साथियों, दोस्तों, शुभचिंतकों, चिकित्सकों, चिकित्साकर्मियों, नेताओं एवं आमजनों के प्रति आभार । हमला तो जानलेवा था, परंतु मारने वाले से बचाने वाले के हाथ लंबे होते हैं। लाठी चार्ज के खिलाफ रालोसपा ने 4 फ़रवरी को बिहार बंद का आह्वान किया था जिसे राजद और वामदलों समेत महागठबंधन के सभी दलों ने समर्थन किया था। राज्य में बंद का मिला जुला असर देखने को मिला था।