उपेंद्र कुशवाहा ने बजट को बताया चुनावी स्टंट, कहा-शिक्षा के प्रति गंभीरता सरकार का दिखावा है

UPENDRA KUSHWAHA

Patna: वित्त मंत्री सुशील मोदी ने विधानसभा में 2 लाख 501 करोड़ का बजट पेश किया। बजट पर अब राजनीतिक प्रतिक्रियाएं सामने आ रही है। जहां पूर्व केंद्रीय मंत्री और रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने भी अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की। उन्होंने कहा कि चुनावों में जनता को आकर्षित करने के लिए बजट पेश किया गया है। लेकिन जनता समझदार है, उन्हें जवाब देगी।

तो वहीं रालोसपा प्रमुख ने तंज कसते हुए कहा कि इस बजट में शिक्षा के लिए 34 हजार करोड़ आवंटित कर सरकार ने यह दिखाने की कोशिश की है कि वह शिक्षा के प्रति गंभीर है, लेकिन हकीकत इससे इतर हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि लगभग 3 लाख से अधिक शिक्षकों के पद रिक्त हैं। उसके अलावा विद्यालयों का ढांचागत विकास भी अधूरा है। पूर्व मंत्री ने कहा कि शिक्षकों के वेतन में असमानता दूर करने में ये सरकार विफल रही है। कुशवाहा ने इस बजट में शिक्षा के लिए किए गए प्रावधानों को नाकाफी बताया और कहा कि नीतियों को जमीन पर उतारने में सरकार विफल रही है। यह बजट पूरी तरह से चुनावी स्टंट और दिखावा है।

TEJ PRATAP

उपेंद्र कुशवाहा ने इससे पूरी तरह चुनावी बजट है। बिहार सरकार ने इस बजट में सिर्फ दिखावा किया है। उन्होंने कहा कि चुनावों में जनता को आकर्षित करने के लिए बजट पेश किया गया है। लेकिन जनता समझदार है, उन्हें जवाब देगी। आपको बता दें कि आज बिहार सदन में बजट पेश होने से पहले विधानसभा के बाहर विपक्षी दलों ने जमकर हंगामा किया। जिसके बाद सदन के अंदर भी माहौल गर्म होने के आसार हैं। बजट सत्र को लेकर सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले ही विपक्षी दलों का हंगामा शुरू हो चुका है। सत्र शुरू होने से पहले विपक्षी दलों के नेता अपने हाथों में तख्तियां और बैनर लेकर बिहार विधानसभा के बाहर प्रदर्शन करते नजर आए। विपक्षी दलों में वाम दल ने न्यूनतम मजदूरी की मांग को लेकर हंगामा किया। वहीं राजद सदस्य लॉ एंड ऑर्डर को लेकर नारेबाजी की।