ज’मानत मिलने के बावजूद भी मुश्किल है लालू-राबड़ी का मिलन हो पाना

PATNA: राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव को देवघर को’षागार से अवै’ध निकासी मामले में रांची हाईकोर्ट ने जमा’नत दे दी है। आज ही राबड़ी देवी ने कहा है कि मुझे कोर्ट पर पूरा विश्वास है और हर हाल में मेरे पति को न्याय मिलेगा। आपको बता दें कि ज’मानत मिलने के बावजूद लालू प्रसाद यादव जेल से बाहर नहीं आ पायेंगे क्योंकि वे अभी चाईबासा के दो मामले, दुमका के एक मामले में स’जा काट ही रहे हैं । इतना ही नहीं, उनके ऊपर डोरंडा कोषागार से अवै’ध निकासी से संबंधित मामले में ट्रायल चल ही रहा है।

RABRI DEVI AND LALU PRASAD YADAV
पांच केस चल रहा है लालू यादव पर-

देवघर कोषाघर के अलावा लालू प्रसाद यादव पर दुमका, डोरंडा कोषागार और चाईबासा के दो मामलों में के’स चल रहा है। इतना ही नहीं, इन सभी मामलों में उनपर आ’रोप साबित हो चुका है। हालांकि डोरंडा कोषागार से अ’वैध निकासी का मामला अभी ट्रायल अवस्था में है। जे’ल से बाहर निकलने के लिए उन्हें इन तीनों मामलों में जमा’नत मिलनी चाहिए। हालांकि देवघर कोषागर मामले में जमान’त मिलने के कारण उन्हें अन्य मामलों में ज’मानत मिलने में थोड़ी राहत जरूर मिलेगी। लालू यादव के वकील ने कहा है कि वे अन्य मामले में भी जमा’नत याचिका दायर करेंगे और उन्हें जेल से बाहर निकलवायेंगे।

सीबीआई ने लालू यादव की ज’मानत पर आप’त्ति जतायी थी-

उनकी जमा’नत याचिका को सीबीआई ने विरोध किया था। सीबीआई ने कोर्ट से कहा था कि लालू यादव अस्पताल से ही राजनीति की सियासत पर नजर रख रहे हैं। सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल कर लालू यादव की जमा’नत का विरोध किया था। गौरतलब है कि बिहार में, 2020 में विधानसभा का चुनाव होने वाला है।

हालांकि अब झारखंड हाईकोर्ट ने एक मामले में जमा’नत दे दी है लेकिन दो अन्य मामलों में जमा’नत मिलने तक घर के बजाय जे’ल में ही रहेंगे। आपको बता दें कि इस समय लालू प्रसाद यादव रांची के रिम्स हॉस्पिटल में अपना इलाज करा रहे हैं। लालू यादव को दिल की बीमारी, हाई डायबिटीज, हाई बीपी, क्रॉनिक किडनी जैसी कई गंभीर बीमारियों की शि’कायत है।