अभी-अभी : लालू की बेल याचिका खारिज, रांची हाई कोर्ट ने सुनाया फैसला

अभी अभी एक बड़ी खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि चारा घोटाला मामले में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद की बेल याचिका खारिज हो गई है। पिछले सप्ताह सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया था। आज उस निर्णय को सार्वजनिक करते हुए कोर्ट ने लालू को बेल देने से साफ इंकार कर दिया।

बताते चले कि लालू प्रसाद को देवघर, चाईबासा व दुमका कोषागार से अवैध निकासी मामले में सीबीआई की अदालत ने सजा सुनाई है। सजा के खिलाफ लालू प्रसाद ने हाईकोर्ट में अपील याचिका दाखिल की है। पिछले दिनों उनकी ओर से जमानत की मांग करते हुए आइए (हस्तक्षेप याचिका) दाखिल की गई है। याचिका में बढ़ती उम्र व कई बीमारियों का हवाला देकर जमानत की गुहार लगाई गई है।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद से जुड़े चारा घोटाले के सबसे बड़े मामले में गुरुवार को गवाह के नहीं पहुंचने के कारण गवाही नहीं हो सकी। अदालत ने अगली तारीख 4 जनवरी निर्धारित की थी। मामले में सीबीआई की प्रभारी एसपी वी लकड़ा को गवाही के लिए बुलाया गया है। मामले की सुनवाई सीबीआई के विशेष न्यायाधीश प्रदीप कुमार की अदालत में चल रही है। लालू यादव की जमानत की याचिका पर सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट को वकील कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला दिया।

लालू के यूरीन में बढ़ा इंफेक्शन, पेशाब में निकल रहा खून : रिम्स में अपना इलाज करवा रहे लालू प्रसाद यादव के यूरीन में इंफेक्शन बढ़ने की बात सामने आई है। लालू का इलाज कर रहे डॉक्टरों ने बताया कि उनके पेशाब से खून आ रहा था। जिसके बाद डॉक्टरों ने लालू प्रसाद का यूरीन कल्चर कराया। जिसमें उनका कोलानी काउंट 80 हजार पाया गया।

तो वहीं इस पर डॉ. उमेश प्रसाद ने बताया कि लालू प्रसाद क्रोनिक किडनी फेल्योर (स्टेज थ्री) से पीड़ित हैं। इसके अलावा प्रोस्टेट, हाइपर यूरीसिमिया, पेरियेनल इंफेक्शन, किडनी स्टोन, फैटी लीवर आदि की भी समस्या है। उनका प्रोस्टेट बढ़ा हुआ है। पहले से ही उनका किडनी लगभग 45 प्रतिशत काम कर रहा है। वह किडनी रोग के पुराने (सीकेडी स्टेज थ्री) मरीज हैं। लंबे समय से उन्हें डायबिटीज है। प्रतिदिन इंसुलिन दिया जा रहा है। डॉ. प्रसाद ने बताया कि उनकी बीमारियों के उतार चढ़ाव को देखते हुए सेहत की मॉनीटरिंग नियमित रूप से की जा रही है।

उधर रिम्स प्रबंधन के अनुरोध पर जेल प्रशासन ने लालू प्रसाद के लिए पेइंग वार्ड में शाकाहारी खाद्य सामग्रियों के साथ साथ झींगा एवं पानी लाने की अनुमति प्रदान कर दी है। लेकिन, मछली, मांस व चिकेन लाने पर प्रतिबंध है। ज्ञात हो कि जेल प्रशासन ने सोमवार को लालू प्रसाद के लिए बाहर से खाना लाने पर प्रतिबंध लगा दिया था। जिसके कारण सोमवार की रात, मंगलवार की सुबह व दोपहर उन्हें खाने में परेशानी हो गई। वह नाश्ता खाना नहीं खा सके। इसके बाद उनका उपचार कर रहे डॉक्टरों ने उनके भोजन की समीक्षा की थी। डॉक्टरों के परामर्श पर रिम्स अधीक्षक प्रो. डॉ विवेक कश्यप ने जेल अधीक्षक को पत्र लिखकर शाकाहारी खाद्य पदार्थों के साथ साथ पानी और झींगा उनके अनुचरों द्वारा लाए जाने की अनुमति मांगी थी।

 

The post अभी-अभी : लालू की बेल याचिका खारिज, रांची हाई कोर्ट ने सुनाया फैसला appeared first on Mai Bihari.