मधुबनी में इंटरमीडिएट की परीक्षा के दौरान नकल कराते धरे गए वीक्षक, एसडीओ ने की तुरंत कार्रवाई

Quaint Media

PATNA : बिहार में इंटरमीडिएट की परीक्षाओं को व्यवस्थित तरीके से कराने को लेकर बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने कड़े निर्देश दिए हैं। परीक्षा के दौरान किसी तरह की लापरवाही न हो इसके लिए अधिकारियों को सख़्त हिदायत दी है। परीक्षा को पूर्ण रूप से नक़लविहीन कराने का मास्टर प्लान भी तैयार किया गया है। बोर्ड की इतनी सख्ती के बाद भी मधुबनी से वीक्षक द्वारा नक़ल कराने का मामला सामने आया है।

इंटरमीडिएट की परीक्षा के दौरान छात्र को मोबाइल से नकल कराते हुए वीक्षक को एसडीओ सुनील कुमार ने पकड़ लिया। जिसके बाद वीक्षक को तत्काल हिरासत में लेने के बाद जेल भेज दिया गया। नक़ल करते हुए पकड़े गए छात्र को परीक्षा से निष्कासित कर दिया गया है। इस मामले में संलिप्त दूसरे शिक्षक पर भी प्राथमिकी दर्ज की गयी है।

Quaint Media

मिली जानकारी के मुताबिक सदर एसडीओ सुनील कुमार सिंह को मिली सूचना के आधार पर यह कार्रवाई की गई। एसडीओ सुनील कुमार सिंह को किसी ने सूचना दी कि मिथिला टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज में वीक्षक नकल करा रहे हैं। इस पर तुरंत एक्शन में आते हुए एसडीओ सुनील कुमार परीक्षा केंद्र पहुंचे। वहां पर संदिग्ध अवस्था में मो. इरफान नामक वीक्षक की तलाशी ली गयी। तलाशी में वीक्षक के मोबाइल में प्रथम पाली में हो रही रसायन विज्ञान की परीक्षा के प्रश्न पत्र का उत्तर ह्वाटसएप से मंगाया गया था।

पूछताछ में वीक्षक मो. इरफान ने बताया है कि वह मध्य विद्यालय एकम्मा मे पदस्थापित हैं। इसी विद्यालय के अन्य शिक्षक ईश्वरनाथ महतो का पुत्र सौरभ कुमार का परीक्षा केंद्र मिथिला टीचर ट्रेनिंग कॉलेज में था। वीक्षक इरफान चुपके से मोबाइल लेकर आ गये और 35 वस्तुनिष्ठ प्रश्न ह्वाटसएप के माध्यम से दूसरे शिक्षक ईश्वरनाथ को भेज दिए। इसके बाद उस प्रश्न काे हल कर वापस भेजा गया। इसे वीक्षक परीक्षा दे रहे छात्र को बता रहे थे।