नहीं रहे देश की पहली लोकसभा के सांसद और डुमरांव महाराजा कमल बहादुर सिंह

Patna : देश की पहली लोकसभा (1952)के सांसद रहे डुमरांव महाराजा कमल बहादुर सिंह का ह्रदय गति रुकने से निधन हो गया। वे 93 साल के थे। पहली लोकसभा के एकमात्र जीवित सांसद और आजाद भारत के अंतिम राजा रहे कमल सिंह ने रविवार सुबह अंतिम सांस ली। मुगल वंश के दूसरे शासक जहांगीर ने कमल सिंह को महाराज बहादुर की उपाधि दी थी। ग्वालियर के महाराज माधव राव सिंधिया और जयपुर के राजा कर्ण सिंह से इनकी रिश्तेदारी थी।

महाराजा होने के बावजूद आम लोगों की तरह सादगी से रहना और लोगों से मिलना-जुलना कमल सिंह की पहचान थी। कमल सिंह ने स्कूल, कॉलेज और अस्पताल के लिए कई एकड़ जमीन दान में दी। इस पर बना महाराजा कॉलेज, जैन कॉलेज और बिहार का इकलौता प्रताप सागर टीबी अस्पताल बना है। भारत रत्न बिस्मिल्लाह खां कमल सिंह के दरबारी वादक थे। राजगढ़ स्थित कमल सिंह के बांके बिहारी मंदिर में बिस्मिल्लाह खां शहनाई बजाया करते थे।

नीतीश ने जतायाशोक,राजकीय सम्मान के साथ होगा अंतिम संस्कार
बिहार सरकार ने राजकीय सम्मान के साथ कमल सिंह का अंतिम संस्कार कराने की घोषणा की है। सोमवार को सुबह 9 बजे राजगढ़ स्थित मार्बल हॉल में अंतिम दर्शन के लिए कमल सिंह का पार्थिव शरीर रखा जाएगा। सुबह 11 बजे अंतिम यात्रा निकलेगी और दोपहर 2बजे बक्सर में अंतिम संस्कार होगा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कमल सिंह के निधन पर शोक जताया है।नीतीश ने कहा कि बिहार के शिक्षा और सामाजिक विकास में कमल सिंह का अहम योगदानरहा है।

कमल सिंह का राजनीतिक करियर-
1952 में आजाद भारत में हुए पहले आम चुनाव में कमल सिंह बतौर निर्दलीय प्रत्याशी बक्सर (तब शाहाबाद नॉर्थ वेस्ट) सीट से मैदान में उतरे और कांग्रेस की कलावती को हराकर पहली बार संसद पहुंचे थे। 1957 में हुए दूसरे लोकसभा चुनाव में भी कमल सिंह को जीत मिली। उन्होंने कांग्रेस के हरगोविंद मिश्रा को हराया था। 1962 में हुए आम चुनाव में वे कांग्रेस के अनंत प्रसाद शर्मा से चुनाव हार गए।

पूर्व प्रधानमंत्री वीपी सिंह के कहने पर अटल बिहारी वाजपेयी, कमल सिंह को लेकर भाजपा में आए। वीपी सिंह कमल बहादुर सिंह के समधीथे। 1989 में हुए आम चुनाव में भाजपा ने उन्हें बक्सर से टिकट दिया लेकिन वे सीपीआई के तेज नारायण सिंह से चुनाव हार गए। 1991 में दोबारा चुनाव हारने के बाद कमल सिंह ने राजनीति से संन्यास ले लिया।