इस बार भी ‘जेल’ में लालू मनाएंगे खिचड़ी और चूड़ा-दही वाला पर्व, कोर्ट ने किया बेल देने से इंकार

PATNA : रांची हाई कोर्ट ने चारा घोटाले में लालू की बेल याचिका को रद्द कर दिया है। इस फैसले के बाद स्पष्ट हो गया है कि पिछले साल की तरह इस बार भी लालू मकर संक्राति पर घर नहीं आ सकेंगे। एक तरह से कहा जाए तो रांची स्थित रिम्स हॉस्पिटल में ही उनको खचड़ी और चूड़ा दही का पर्व मनाना होगा। उधर इस फैसले से राजद समर्थकों को निराशा हाथ लगी है।

लालू आवास के दही-चूड़ा का भोज होता है बिहार के लिए खास : राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के घर मकर संक्रांति के अवसर पर दिया जाने वाला दही-चूड़ा के भोज की चर्चा आम और खास सबके बीच रहती है। इस भोज का लोग बेसब्री से इंतजार करते हैं। लेकिन, इस बार लालू परिवार पर आई विपत्ति के कारण संक्रांति का त्‍योहार फीका ही रहेगा।

2017 की मकर संक्रांति, याद करेंगे लोग : जिन दोस्तों ने पिछले साल एक साथ बैठकर दही-चूडा़, तिलकुट का भोज खाया था, वो इस बार किसी और के साथ भोज का मजा लेंगे। पिछले साल की मकर संक्रांति के भोज की बात करें तो लालू आवास पर उस वक्त हंसी-खुशी का माहौल था। उस साल लालू की बड़ी बेटी मीसा भारती ने खुद भोज के आयोजन की कमान संभाली थी। मिट्टी के बरतन में दही जमाया गया था, कई क्विंटल चूड़ा लोगों के बीच बांटा गया था। गया के तिलकुट के पैकेट का ढेर लग गया था तो वहीं आलू-गोभी मटर की सब्जी की खुशबू माहौल को और खुशनुमा बना रही थी।

दो दिनों तक चला था भोज : वर्ष 2017 में दो दिनों तक लालू आवास पर मकर संक्रांति का भोज चलता रहा था। इसमें शामिल होने के बाद लोगों ने उसे यादगार करार दिया था। लेकिन, किसी को पता नहीं था कि हंस-हंसकर लोगों को अपने हाथों से दही परोसने वाले लालू एक साल बाद जेल में रहेंगे।

The post इस बार भी ‘जेल’ में लालू मनाएंगे खिचड़ी और चूड़ा-दही वाला पर्व, कोर्ट ने किया बेल देने से इंकार appeared first on Mai Bihari.