ममता बनर्जी का दावा सीएम नीतीश बिहार से बाहर नहीं रहेंगे एनडीए के गठबंधन में

PATNA: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दावा किया है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार के बाहर एनडीए के साथ गठबंधन नहीं रहेंगे। इसपर ममता बनर्जी ने नीतीश को बधाई दी और धन्यवाद कहा। आपको बता दें कि कुछ दिनों से जदयू और भारतीय जनता पार्टी के बीच दूरी बढ़ने की बात उठ रही है। हालांकि ममता के इस बयान में कितनी सच्चाई यह नीतीश कुमार ही बता पायेंगे कि वे बिहार के बाहर गठबंधन के साथ चुनाव लड़ेंगे या अकेले या किसी और पार्टी के साथ गठबंधन करेंगे।

क्यों उठ रही है दूरी बढ़ने की बात-

गौरतलब है कि नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड भाजपा के एनडीए गठबंधन शामिल है। बिहार में इसी गठबंधन के साथ जदयू, 2019 के लोकसभा चुनाव लड़ी। एनडीए और भाजपा को पूरे देश प्रचंड बहुमत मिला और 30 मई को शपथ-ग्रहण समारोह से अधिकारिक रुप से मोदी की नयी सरकार बनी। इस शपथ-ग्रहण समारोह में मंत्री पद का बंटवारा किया गया, जिसमें 6 सीटें जीतने वाली लोजपा को एक कैबिनेट मंत्री का सीट मिला। वहीं जदयू को भी एक मंत्री पद दिया जा रहा था, लेकिन जदयू ने लेने से इंकार कर दिया और कहा 16 सीटें जीतने के कारण कम-से-कम तीन मंत्री पद चाहिए, जिसे भाजपा ने नहीं माना। इसके बाद जदयू ने फैसला किया कि वे एक मंत्री पद नहीं लेंगे। हालांकि नीतीश कुमार ने कहा कि वे नाराज नहीं हैं। उनकी पार्टी मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होंगे, लेकिन भाजपा के साथ गठबंधन बरकरार रहेगा।

इसके बाद मांझी के इफ्तार पार्टी में भी नीतीश शामिल हुए, जिसके कारण यह बात और उठने लगी। हाल ही उनकी पार्टी जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ममता के बीच लगभग दो घंटे की लंबी राजनीतिक बातचीत हुई है। ऐसा कहा जा रहा है कि किशोर पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए ममता की जीत के लिए राजनीतिक रणनीति बना सकते हैं। ऐसे में सवाल उठने लगा है कि क्या PK जदयू में रहते हुए, बंगाल में भारतीय जनता पार्टी को हराने के लिए रणनीति बनायेंगे? इसपर भी नीतीश का एनडीए में रहने पर सवाल उठने लगा।