हार के बाद महागठबंधन की दूसरी बैठक, शामिल नहीं हुए कांग्रेसी नेता, समीक्षा के लिए समिति गठित

PATNA: लोकसभा चुनाव में महागठबंधन की करा’री हा’र के बाद  इसकी समीक्षा के लिए कल से बैठक चल रही है। तेजस्वी यादव की अध्यक्षता में, यह बैठक पटना में राबड़ी देवी के आवास पर हुई।। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, मीसा भारती, तेजस्वी यादव, जगदानंद सिंह, उपेन्द्र कुशवाहा, मुकेश सहनी और विधानमंडल के सभी सदस्य सहित महागठबंधन के बड़े-बड़े नेता मौजूद रहें, लेकिन इस बैठक में कांग्रेस के एक भी नेता शामिल नहीं हुए।

तेजस्वी यादव का ब’यान-

लोकसभा चुनाव 2019 में राजद की बु’री हा’र पर तेजस्वी का कहना है कि हमलोगों ने हा’र और चुनावी नतीजों पर मंथन किया। हा’र जीत चलते रहता है। हमलोग हौ’सला नहीं हा’रे हैं। आगे भी महागठबंधन के नेता एकजूट होकर मजबूती के साथ चुनाव लड़ें’गे और चुनौ’तियों का सामना करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि  इसबार के चुनाव में जनता को गुम’राह और भ्र’मित किया गया। जनता के मुद्दों पर लड़ा’ई लड़’ने के बजाय अपने एजेंडे पर एनडीए चुनाव लड़ी। यह एक प्रकार का ष’ड्यंत्र था, इसलिए अब हमलोग जनता के बीच जाकर जनता को उस षड्यं’त्र और गुम’राह से बाहर करेंगे।

कांग्रेस नहीं हुई शामिल-

आपको बता दें कि महागठबंधन के इस बैठक में कांग्रेस पार्टी की ओर से एक भी नेता शामिल नहीं हुए। राजद का कहना है कि कांग्रेस पार्टी  का निमंत्रण मिला है। हमलोग खुद दिल्ली जा रहे हैं। कांग्रेस चुनावी हा’र पर कल-परसों में बैठक करने वाली है। हमारी बातचीत राहुल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से लगातार हो रही है। अगर कांग्रेस का कोई नेता बैठक में शामिल नहीं हुए तो इसका मतलब यह नहीं है कि महागठबंधन टूट’ने वाला है।

Mahagthbandhan in Bihar
हा’र की समी’क्षा के लिए बनायी गयी कमेटी-

हा’र की स’मीक्षा के लिए हमलोगों ने राजद नेता जगदानंद सिंह के नेतृत्व में एक कमेटी बनायी गयी है, जो हा’र के कारणों से अवगत कराने का काम करेगी। यह कमेटी 15 दिनों के भीतर हा’र के कारणों पर अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। जगदानंद सिंह के अनुसार तेजस्वी यादव के नेतृत्व को सराहा गया है। आपको बता दें कि इस समिति के अध्यक्ष जगदानंद सिंह को बनाया गया है। वहीं अब्दुल बारी सिद्दीकी और आलोक मेहता को सदस्य बनाया गया है।

तेजस्वी ही रहेंगे नेता प्रतिपक्ष-
तेजस्वी यादव विधानसभा में विपक्ष के नेता बने रहेंगे। 2020  में होने वाले विधानसभा का चुनाव भी तेजस्केवी के ही नेतृत्व में लड़ा जायेगा। इसपर जगदानंद का कहना है कि जो युवा चिल’चिलाती धुप में  लगभग 250 सभाएं और रैलियां किया हो, जो युवाओं में जोश भरने का काम किया हो, उसके नेतृत्व पर श’क किया जाय?  वे हमारे नेता बने रहेंगे और हमलोग लालू प्रसाद के मार्गदर्शन में काम करते रहेंगे। इतना ही नहीं आगामी चुनाव में जीत हमारी ही होगी।

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव 2019 में 40 सीटों में एनडीए ने 39 सीटों पर जीत हासिल की। महागठबंधन को सिर्फ किशनगंज सीट पर जीत मिली, वो भी कांग्रेस के खाते में चली गयी। राजद को एक भी सीट नहीं मिली। इस कारण राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने कुछ दिनों तक चिं’ता के कारण खाना-पीना छोड़ दिया था। यहां तक की जीतन राम मांझी की पार्टी हम और मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी भी शून्य पर ही आउट हो गयी।