मोदी जी ने नीतीश को दिखाई उनकी औ’कात, अपमा’नित होकर भी बने हैं गठबंधन में- प्रेमचन्द्र मिश्र

PATNA: बिहार में कांग्रेस एमएलसी प्रेमचन्द्र मिश्र ने सीएम नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी जी ने नीतीश को उनकी हैसियत दिखा दिये हैं। प्रेमचन्द्र यह बयान नीतीश की पार्टी के मोदी के मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होने के बाद आया है। 

प्रेमचन्द्र का बयान-

नीतीश और जनता दल यूनाइटेड बहुत उत्साह के साथ एनडीए में शामिल हुए थे। अब जब मोदी ने मंत्रिमंडल का गठन किया और नीतीश को मंत्रिमंडल में उचित नहीं प्रतिनिधित्व नहीं दिये तो यह जदयू के लिए बहुत बड़ा झटका है। इसके जरिये मोदी ने जदयू की वास्तविक हैसियत दिखाया है। अब फैसला नीतीश को लेना है कि अपमानित होने के बाद भी वे भाजपा के साथ गठबंधन में शामिल रहना चाहते हैं।

गौरतलब है कि नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड भाजपा के एनडीए गठबंधन शामिल है। बिहार में इसी गठबंधन के साथ जदयू, 2019 के लोकसभा चुनाव लड़ी। इस गठबंधन के पार्टियों के बीच बिहार के कुल 40 लोकसभा सीटों को बांटा गया। इस बंटवारे में 17 भाजपा, 17 जदयू, 6 सीटें रामविलास की लोक जनशक्ति पार्टी को मिली। इतना ही नहीं यहां भाजपा और लोजपा सभी सीटों पर शानदार जीत हासिल की। वहीं जदयू ने भी 17 में से 16 सीटों पर जीत हासिल की। एनडीए और भाजपा को पूरे देश प्रचंड बहुमत मिला और 30 मई को शपथ-ग्रहण समारोह से अधिकारिक रुप से मोदी की नयी सरकार बनी।

क्यों मांग रही थी तीन मंत्री पद-

इसी शपथ-ग्रहण समारोह में मंत्री पद का बंटवारा किया गया, जिसमें 6 सीटें जीतने वाली लोजपा को एक कैबिनेट मंत्री का सीट मिला। वहीं जदयू को भी एक मंत्री पद दिया जा रहा था, लेकिन जदयू ने लेने से इंकार कर दिया और कहा 16 सीटें जीतने के कारण कम-से-कम तीन मंत्री पद चाहिए, जिसे भाजपा ने नहीं माना। इसके बाद जदयू ने फैसला किया कि वे एक मंत्री पद नहीं लेंगे। हालांकि नीतीश कुमार ने कहा कि वे नाराज नहीं हैं। उनकी पार्टी मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होंगे, लेकिन भाजपा के साथ गठबंधन बरकरार रहेगा।

इसी को आधार बनाकर विपक्ष जदयू पर हमलावर है। विपक्ष का कहना है कि जदयू अपनी इज्जत बचाने के लिए कह रही है कि वे मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होगी जबकि हकीकत यह है कि भाजपा और मोदी ने जदयू और नीतीश को उनकी औकाद दिखा दी है।