अमेरिका में बिहार के बेटे ने लहराया परचम, छात्र संघ चुनाव में मोकामा के शानू ने हासिल की जीत

अमेरिका में बिहार के बेटे ने लहराया परचम, छात्र संघ चुनाव में मोकामा के शानू ने हासिल की जीत

By: Roshan Kumar Jha
September 15, 04:51
0
...

PATNA : मोकामा के सकरवार टोला निवासी, उच्चतम न्यायालय के अधिवक्ता तथा वर्तमान में विश्व के सबसे प्रतिष्ठित शैक्षिक संस्थानो में शुमार फ़्लेचर स्कूल ओफ लॉ एंड डिप्लोमसी के छात्र Kumar Shanu ने अमेरिका स्थित अपने कॉलेज में छात्र संघ चुनाव जीत लिया है। मतदान करने वाले छात्र पच्चास विभिन्न देशों के नागरिक हैं। शानू ने बताया कि इस चुनाव में उन्हें एक रुपया भी ख़र्च करने की आवश्यकता नहीं पड़ीं लेकिन अलग अलग संस्कृति, सभ्यता और कार्यक्षेत्र से आने वाले बुद्धिजीवी छात्रों का समर्थन हासिल करना आसान नहीं था।

चुनाव जीतने के पश्चात अब शानू की कॉलेज के हर महत्वपूर्ण मामले में सहभागिता होगी। ज्ञात हो फ़्लेचर स्कूल ने विश्व को कई राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, संयुक्त राष्ट्र अधिकारी, नोबल पुरस्कार विजेता और सभी क्षेत्रों में नायक दिए हैं। शानू की यह अप्रत्याशित जीत भारत के लिए गर्व की बात है।

50 देशों के छात्र और राजनैतिक राजनयिक करते हैं वोट : दरअसल अमेरिका के फ्लेचर स्कूल ऑफ लॉ एंड डिप्लोमेसी में 50 विभिन्न देशों के छात्र नामांकित हैं। संयुक्त राष्ट्र संघ में कार्यरत और विभिन्न देशों के दूतावास और विदेश सेवा में कार्यरत अधिकारी भी वहां मास्टर की डिग्री लेने जाते हैं। कुमार शानू भी वहां मास्टर इन लॉ के छात्र हैं। शानू ने बताया कि कुल 6 उम्मीदवार चुने गए हैं। 12 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे थे तथा छह को जीत मिली है। इस चुनाव में 50 देशों के छात्र वोट करते हैं। अमेरिकी सेना के भी कई वरिष्ठ अधिकारी वहां से कानून की पढ़ाई कर रहे हैं। कई विभिन्न देशों के नौकरशाह भी वहां पढ़ाई करते हैं। कुमार शानू ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय विदेश नीति और कूटनीति का यह एक उत्कृष्ट संस्थान है तथा कई पूर्व प्रधानमंत्री, राष्ट्राध्यक्ष, नोबेल पुरस्कार विजेता तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त करने वाले कई लोग वहां के छात्र रहे हैं। काउंसिल मेंबर्स के 6 पदों पर चुनाव हुआ था तथा कुमार शानू भी चुनाव में काउंसिल मेंबर चुने गए हैं।

अपने तर्कों से जुटाना पड़ता है समर्थन : अमेरिका के छात्र संघ का चुनाव लड़ रहे चुनाव में एक रूपया भी खर्च नहीं करना पड़ा तथा वहां चुनाव लड़ने वाले छात्रों को संस्कृति सभ्यता तथा अपने तर्कों के सहारे वोट जुटाने होते हैं। जितने भी छात्र वहां पढ़ाई कर रहे हैं उनमें आधे से अधिक छात्र तो उच्च पदों पर कार्यरत नौकरशाह रहते हैं जो वहाँ कानून, कूटनीति, विदेशनीति की पढ़ाई के लिए आते हैं। ऐसे में वहां रुपयों को खर्च करने की कोई आवश्यकता रहती ही नहीं है।

मोकामा के रहने वाले हैं कुमार शानू : कुमार शानूदरअसल मोकामा के रहने वाले हैं। मोकामा के सकरवार टोला के मूलनिवासी कुमार शानू उच्चतम न्यायालय के अधिवक्ता हैं। उनके पिता कुंदन कुमार की मोकामा में श्याम मार्केट नाम की कमर्शियल काम्प्लेक्स है। कुमार शानू ने अपनी प्रतिभा और मेधा के बल पर यह मुकाम हासिल किया है। स्कॉलरशिप पर पढ़ाई कर रहे शानू को पढ़ाई के खर्च के लिए किसी से मदद नहीं लेनी पड़ी और उनकी प्रतिभा के बल पर उनको छात्रवृति मिली है।

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments