मधुबनी में बालिका गृह कांड के विरोध में MSU ने निकाला मुख्यमंत्री का शव यात्रा, जांच की मांग

मधुबनी में बालिका गृह कांड के विरोध में MSU ने निकाला मुख्यमंत्री का शव यात्रा, जांच की मांग

By: Bideshwar nath jha
August 10, 13:46
0
....

LIVE BIHAR : बिहार के मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड मामले में अब मधुबनी जिले में भी लोगों का का गुस्सा उफान पर है। छात्र संगठन मिथिला स्टूडेंट यूनियन ने गुरुवार को बालिका गृह कांड मामले पर आन्दोलन के एलान के बाद शुक्रवार को मधुबनी स्टेशन से गुजरते हुए समाहरणालय तक बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का शव यात्रा निकाला। इस दौरान यूनियन के कार्यकर्ता जमकर सरकार व प्रशासन के खिलाफ नारे लगा रहे थे। मुख्य बाज़ार से गुजरते हुए सैकड़ों संख्या में कार्यकर्ता व आम लोग शव यात्रा में साथ चल रहे थे। इस बाबत यूनियन के जिला प्रवक्ता विजय श्री टुन्ना ने कहा कि यूनियन इस आंदोलन को लेकर तब तक लड़ती रहेगी जब तक उन बच्चियों को न्याय नहीं मिल जाता है। दोषियों को सजा होने तक चरणबद्ध आंदोलन चलाया जायेगा। वहीं विजय श्री ने कहा कि मधुबनी बालिका गृह की संचालिका व उसके पति का राजनीतिक संबंधों की जांच कर मामले का उद्भेदन किया जाय। साथ ही मामले की जांच न्यायिक टीम की निगरानी में होने की मांग की गई है। इस दौरान साथ में यूनियन के रंधीर झा, विकास कुमार, संदीप झा, मयंक विश्वास, दीपक बजाज, कृष्णा, प्रशांत रंजन, मनीष, राजन, प्रियांशु, राजन कुमार, रुपेश कुमार, दुर्गेश पराशर, मो. बहाव सहित सैकड़ों कार्यकर्ता व लोग मौजूद थे।


जानकारी हो कि बालिका गृह कांड मामले में मधुबनी बालिका गृह सबसे अहम कड़ी है जहां मुजफ्फरपुर बालिका गृह से बाच्चियों को शिफ्ट कर मधुबनी बालिका गृह लाया गया था, जहां से बच्चियां गायब हो गई। इस बाबत लगातार सत्ताधारी दल पर विपक्ष द्वारा दवाब बनाया जा रहा है लेकिन अब तक मधुबनी जिला प्रशासन द्वारा कोई भी ठोस पहल होता हुआ नजर नहीं आ रहा। बता दें की बुधवार को मधुबनी बालिका गृह की वार्डन की गिरफ्तारी हुई है। जिससे पूछताछ की जा रही है। लेकिन बच्ची गायब होने को लेकर अभी तक कोई भी सुराग पुलिस या सीबीआई को नहीं लग सकी है। वहीं मधुबनी बालिका गृह का संचालन प्रज्ञा भारती कर रही थी जो की जदयू नेता के आप्त सचिव उदय झा की पत्नी है। पुलिस मामले में संदिग्धों पर नकेल कसने के बजाय ढुलमुल रवैया अपना रही है। वहीं गुरुवार को मामलें में मधुबनी से यह भी खबर सामने आई कि जिला के कई मुख्य अखबार व न्यूज़ चैनल के ब्यूरो को बालिका गृह ओअर लगातार खबर करने को लेकर फोन पर जान से मारने की भी धमकी मिली है। इस बाबत मीडियाकर्मियों ने स्थानीय थाने में शिकायत भी दर्ज कराई है।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments