नागमणि की उपेंद्र कुशवाहा को चुनौती, कहा-‘कुशवाहा जहाँ से लड़ेंगे चुनाव वहीँ से दूंगा मात’

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives Live Bihar, Live Bihar, Live India

PATNA : बिहार में लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद से राजनीतिक गलियारों में पारा चढ़ने लगा है। होली के साथ ही नेताओं पर भी अब राजनीतिक का पूरा रंग चढ़ने लगा है। इसी रंग के चढ़ने के चलते रालोसपा से अलग हो चुके पूर्व केंद्रीय मंत्री नागमणि (NAGMANI) ने उपेंद्र कुशवाहा (UPENDRA KUSHVAHA) पर जोरदार हमला बोला है।

इसे भी पढ़ें : ‘सीट बंटवारे को लेकर महागठबंधन में किसी तरह का कोई मतभेद नहीं’ – उपेंद्र कुशवाहा

रालोसपा से अलग हो चुके पूर्व केंद्रीय मंत्री नागमणि ने रालोसपा के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा को चुनौती देते हुए कहा है कि “अगर उपेंद्र कुशवाहा में हिम्मत है तो वो काराकाट से चुनाव लड़ें, मैं वहीं उन्हें शिकस्त दूंगा।” इतना ही नहीं नागमणि ने एक चुनौती और देते हुए कहा है कि “मैं घोषणा करता हूँ कि उपेंद्र कुशवाहा जिस लोकसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे, मैं वहीं से उन्हें मात दूंगा।”

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives Live Bihar, Live Bihar, Live India

बता दें कि कुछ दिनों पहले ही नागमणि रालोसपा का साथ छोड़ कर अलग हो गए थे। अब नागमणि ने रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा को चुनौती दे दी है। वहीँ इससे पहले उपेंद्र कुशवाहा ने लोकसभा चुनाव को लेकर बिहार एनडीए पर जमकर निशाना साधा था।

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि पिछले पांच वर्षों के शासन से जनता नाराज है। जनता ने अब लोकसभा चुनाव में एनडीए को हराने और महागठबंधन को जिताने के लिए कमर कस ली है। वहीँ कुशवाहा ने बिहार की 40 की 40 लोकसभा सीटों के जीतने का दावा भी किया। उपेंद्र कुशवाहा ने महागठबंधन में सीटों के बंटवारे को लेकर मीडिया से बातचीत में कहा कि “महागठबंधन में सीटों के बंटवारे को लेकर किसी भी पार्टी में कोई मतभेद नहीं है। वहीँ एनडीए की बात करते हुए उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि एनडीए में भले ही सीटों का बंटवारा हो गया हो लेकिन वहां पर भी अभी तक यह तय नहीं हुआ है कि कौन सी पार्टी कहां से चुनाव लड़ेगी ?

वहीं पीएम मोदी पर भड़ास निकालते हुए उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि “देश के प्रधानमंत्री मोदी पिछले चुनाव में बिहार के लोगों से घूम-घूम कर वादा किए थे कि बिहार के लोगों के लिए पढ़ाई, कमाई और दवाई के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा, लेकिन यहां स्वास्थ्य और शिक्षा व्यवस्था पूरी तरह चौपट है। वहीँ राज्य में कमाई का कोई साधन भी नहीं है। भाजपा के नेता जनता के मुद्दे से अलग दूसरे मुद्दे चुनाव में उठा रहे हैं।