अयोध्‍या मामला : PM मोदी का संदेश, ये समय रामभक्ति या रहीमभक्ति का नहीं बल्कि भारतभक्ति का

PATNA : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी देशवासियों से अपील की है कि वो देश में शांति और सद्भाव को प्रोत्साहित करें। सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला न्यायिक प्रक्रियाओं में जन सामान्य के विश्वास को और मजबूत करेगा। रामभक्ति हो या रहीमभक्ति, ये समय हम सभी के लिए भारतभक्ति की भावना को सशक्त करने का है।

उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि देश की हजारों साल पुरानी भाईचारे की भावना के अनुरूप हम 130 करोड़ भारतीयों को शांति और संयम का परिचय देना है। सर्वोच्च न्यायालय ने अयोध्या पर अपना फैसला सुना दिया है। इस फैसले को किसी की हार या जीत के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में 5 जजों की संविधान पीठ ने शनिवार को अयोध्या केस पर फैसला सुनाया। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने 45 मिनट तक फैसला पढ़ा और कहा कि मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाया जाए और इसकी योजना 3 महीने में तैयार की जाए। कोर्ट ने 2.77 एकड़ की विवादित जमीन रामलला विराजमान को देने का आदेश दिया।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा कि मीर बाकी ने बाबरी मस्जिद बनवाई थी, लेकिन 1949 में आधी रात में राम की प्रतिमा रखी गई थी। मस्जिद कब बनाई गई इसका वैज्ञानिक साक्ष्य नहीं है। संवैधानिक पीठ ने फैसला सुनाते हुए निर्मोही अखाड़ा और शिया वक्फ बोर्ड का दावा खारिज कर दिया। अमित शाह ने कहा है कि श्रीराम जन्मभूमि पर सर्वसम्मति से आये सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का मैं स्वागत करता हूँ। यह निर्णय भारत की एकता, अखंडता और महान संस्कृति को और बल प्रदान करेगा।