अरुण जेटली की श्रद्धां’जलि सभा में सीएम नीतीश का ऐलान- बिहार में लगेगी उनकी भव्य मूर्ति

PATNA : पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली को याद करने के लिए आज बिहार में NDA ने श्रद्धां’जलि सभा बुलाई थी। इसी सभा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अरुण जेटली के सम्मान में सरकार की तरफ से एक भ’व्य मूर्ति बनवाने का ऐलान किया है। इसके साथ ही सीएम नीतीश कुमार ने यह भी घोषणा की है कि अरुण जेटली के जन्मतिथि 28 दिसंबर को हर साल राजकीय समारोह के तौर पर मनाया जाएगा।

अरुण जेटली के योगदान को याद करते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में हम लोगों को सेवा करने का जो मौका मिला है उसमें अरुण जेटली की महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने देश की अर्थव्यवस्था को सिधारने में और बिहार के विकास में हमेशा अपना योगदान दिया है। वो बिहार के विकास को लेकर हमेशा चिंतित रहते थे और हमारा मार्गदर्शन करते थे। ज्ञात हो अरुण जेटली और नीतीश कुमार में बहुत पहले व्यक्तिगत मित्रता थी।

नीतीश को मुख्यमंत्री बनाने में अहम योगदान था-

यद्यपि अरुण जेटली बिहार के नहीं थे, लेकिन बीते 20 वर्षों में उनका राज्य की राजनीति में अहम स्थान रहा। आपको बता दें कि 2000 में जब नीतीश सात दिनों के लिए मुख्यमंत्री बने थे, उस समय विधानसभा में सदस्य संख्या के लिहाज से भाजपा बड़ी पार्टी थी। फिर भी नीतीश मुख्यमंत्री बने तो उसमें अरुण जेटली का बड़ा योगदान था। उस समय अरुण जेटली भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव थे और बिहार में भाजपा के प्रभारी थे। अरुण जेटली ने नीतीश कुमार को बिहार का मुख्यमंत्री बनाने में अहम योगदान निभाया। उन्होंने भाजपा आलाकमान को सलाह दी थी कि बिहार से लालू यादव के राज से लड़ने के लिए नीतीश कुमार को चेहरा बनाया जाय। श्रद्धांजलि सभा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, केन्द्रीय मंत्री राम विलास पासवान के अलावा केन्द्रीय मंत्री नित्यानंद राय, अश्विनी चौबे समेत कई नेता मौजूद थे।