CM नीतीश के ‘ड्रीम प्रोजेक्ट’ के तहत बनाए गए इस स्कूल को कहते हैं बिहार का नेतरहाट

PATNA: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (NITISH KUMAR) के ड्रीम प्रोजेक्ट के तहत बनाए गए सिमुलतला आवासीय विद्यालय का निर्माण नेतरहाट की तर्ज पर किया गया है। बता दें कि जब बिहार से झारखंड अलग हुआ तो नेतरहाट विद्यालय भी झारखंड चला गया। इसके बाद बिहार में भी नेतरहाट के तर्ज पर एक स्कूल की मांग उठने लगी। इसी के चलते जमुई जिले के सिमुलतला में सिमुलतला आवासीय विद्यालय की स्थापना 9 अगस्त 2010 को की गई। इस विद्यालय का उद्घाटन सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए किया था।

बता दें कि सिमुलतला आवासीय विद्यालय का संचालन सिमुलतला एजुकेशन सोसायटी करती है। इस विद्यालय को पूरी तरह राज्य सरकार द्वारा वित्त प्रदत्त किया गया है। इस विद्यालय की बहुत सी खासियत हैं जिसके चलते इसे जाना जाता है। बता दें कि इस विद्यालय के संचालन के लिए तीन तरह की अलग-अलग कमिटियां बनाई गई हैं। जिसमें राज्य के शित्रा मंत्री, विभाग के महासचिव से लेकर जिले के डीएम और स्कूल के प्राचार्य शामिल हैं। कमिटी में शामिल होने वाले इन सभी लोगों पर विद्यालय के सफल संचालन की पूरी जिम्मेदारियां होती हैं।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives Live Bihar, Live Bihar, Live India

जमुई जिले की हरी-भरी वादियों के बीच स्थित सिमुलतला आवासीय विद्यालय में कक्षा 6 में ही छात्रों का नामांकन होता है जिसके लिए राज्य स्तर पर एक जाँच परीक्षा ली जाती है। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा संचालित जांच परीक्षा में सूबे के सभी जिले के छात्र-छात्राएं परीक्षा में शामिल होते हैं।

सबसे ख़ास बात इस विद्यालय के विद्यार्थी पिछले दो साल से बिहार में मैट्रिक के नतीजों में अपना परचम लहरा रहे हैं। 2015 की मैट्रिक परीक्षा में टॉप 31 में से 30 बच्चे इसी विद्यालय से थे। 2016 के मैट्रिक नतीजों में इस स्कूल की बच्ची बिहार टॉपर बनी। 2016 के नतीजों में टॉप 10 में इस स्कूल के 46 बच्चे शामिल हुए थे। सरकार का शिक्षा के क्षेत्र में ड्रीम प्रोजेक्ट सिमुलतला आवासीय विद्यालय के छात्र लगातार अपनी प्रतिभा का परिचय तो दे रहे हैं। अब इस बार देखना होगा कि बोर्ड की परीक्षा में इस विद्यालय के कितने बच्चे नाम रोशन करते हैं।