प्रदूषण को लेकर बिहार सरकार का फैसला, डीजल ऑटो को CNG में बदलेगी, देगी सब्सिडी

PATNA : दिल्ली के बाद बिहार में भी वायु प्रदूषण का ख’तरा बढ़ता जा रहा है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा जारी वायु गुणवत्ता सूचकांक में पटना की स्थिति दिल्ली से भी ब’दतर है। पटना की हवा राजधानी दिल्ली से भी जहरीली होती जा रही है। इसी को देखते हुए नीतीश सरकार ने बड़ा फैसला किया है।

नीतीश सरकार ने फैसला किया है कि वह डीजल से चलने वाले ऑटो को प्रतिबंधित करते हुए इनके स्थान पर सीएनजी चालित वाहनों को बढ़ावा देगी। वहीँ डीजल/पेट्रोल चालित ऑटो को सीएनजी में कन्वर्ट कराने वाले वाहन चालकों को सब्सिडी भी देगी। वहीं इसी के साथ ही इन जगहों पर इलेक्ट्रिक चालित और बैट्री चालित तिपहिया वाहन के परिचालन को प्रोत्साहित किया जायेगा।

सरकार की इस योजना के तहत 7 व्यक्तियों के बैठाने वाले डीजल/पेट्रोल के तिपहिया वाहन को सीएनजी चालित तिपहिया वाहन से कन्वर्ट करने पर सरकार 40 हजार रुपए का अनुदान देगी। वहीँ 7 व्यक्तियों के बैठाने वाले पेट्रोल चालित तिपहिया वाहन को सीएनजी किट में बदलने पर 20 हजार रुपए का अनुदान दिया जाएगा।

वायु प्रदूषण को रोकने के लिये मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की अध्‍यक्षता में हुई बैठक में कई कड़े व बड़े फैसले लिए गए हैं। राज्‍य में 15 साल पुराने सभी सरकारी वाहनों के परिचालन पर रोक लगा दी गई है। साथ ही पटना में 15 साल पुराने व्‍यावसायिक वाहन नहीं चलेंगे। इससे पहले सरकार ने पुआल जलाने पर प्रतिबंध लगाते हुए ऐसा करने वाले किसानों को सरकारी लाभ नहीं देने का भी फैसला किया था।