नीतीश सरकार के मोबाइल घो’टाले पर भड़’के भाई विरेन्द्र, जीरो टॉलरेंस बताया स्लोगन

PATNA: राजद नेता भाई विरेन्द्र ने कहा कि नीतीश कुमार की सरकार में घोटा’ला तो बहुत हुआ है, लेकिन जब इसका उजागर होता है तभी जनता जान पाती है। एनडीए का जीरो टॉलरेंस पूरी तरह फेल हो गया है। इसपर एक भी काम नहीं हो पा रहा है और अपरा’ध का ग्राफ बढ़ते जा रहा है। रोज-रोज ह’त्याएं हो रही है। एनडीए जो जीरो टॉलरेंस की बात कर रही है वो सिर्फ स्लोगन बनकर रह गया है।

विरेन्द्र भाई का कहना है कि रालोसपा अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने नीतीश सरकार में हुए मोबाइल घोटा’ले का पर्दा’फाश किया। सरकार को चाहिए कि जल्द से जल्द इसकी जांच करवाये और भ्रष्टा’चारियों को सजा दे। जनता के पैसों को नीतीश सरकार में लू’टा जा रहा है। यह बिल्कुल भी अच्छी बात नहीं है।

भाई विरेन्द्र कहा  हमलोग इस बात को विधानसभा में भी उठायेंगे, तब सरकार बोलेगी कि सदन नहीं चलने दिया जा रहा है। यह पूरी तरह गलत बात है कि सवाल पूछने पर कहा जाता है कि सदन नहीं चलने दिया जा रहा है। जब जनता का पैसा लू’टा जा रहा है और हमलोग इसके खिला’फ आवाज उठाते है तो सरकार को इसपर अमल करनी चाहिए। आने वाले दिनों में हमलोग और भी घो’टाले का उजागर करने वाले हैं।

जानियें क्या है पूरा मामला-

कुशवाहा ने नीतीश सरकार पर वित्तीय घोटा’ला करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि ये मामला समाज कल्याण विभाग से जुड़ा है। समाज कल्याण विभाग ने 2018 में 34000 मोबाइल खरीदे थे, जिसके लिए कुल 31 करोड़ चार लाख 14 हजार रुपये का भुगतान किया गया था। कुशवाहा का आरोप है कि इस खरीद में सरकार ने बाजार मूल्य से 6 करोड़ 78 लाख रुपये से ज्यादा का भुगतान किया है। कुशवाहा ने मीडिया को इस मामले से जुड़े कागजात मुहैया कराए हैं। साथ ही उनका दावा है कि आने वाले दिनों में वो और भी विभागों में हुए भ्रष्टा’चार का खुलासा करेंगे। इस विषय में कुशवाहा ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र भी लिखा है, साथ ही पूरे मा’मले की जांच की मांग की है। कुशवाहा ने बिहार सरकार को आगाह किया है कि अगर जांच नहीं की गई तो पार्टी आंदोलन पर उतरेगी।