उजियारपुर में भी रही भाजपा की लहर, नित्यानंद राय लगातार दूसरी बार बनें सांसद

Patna: भारतीय जनता पार्टी के बिहार प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय उजियारपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से शानदार जीत हासिल की। आपको बता दें कि उजियारपुर से लोकसभा चुनाव 2019 के उम्मीदवार- भाजपा से नित्यानंद राय, रालोसपा से उपेन्द्र कुशवाहा और CPI(M) से अजय कुमार थे।

नित्यानंद को कुल 543906 (56.11%) वोट मिला। वे उपेन्द्र कुशवाहा से 277278 वोटों से जीते। कुशवाहा 266628(27.51%) वोटों के साथ दूसरे स्थान पर रहें। वही तीसरे स्थान पर  27577 (2.85%)वोटों के साथ अजय कुमार रहे। गौरतलब है कि यहां का वर्तमान सांसद 2019 लोकसभा चुनाव के विजेता नित्यानंद ही हैं।

लोकसभा चुनाव 2019 का नतीजा-

Source: ECI

 

लोकसभा चुनाव 2014 का नतीजा-

भाजपा के नित्यानंद राय कुल 317,352 (22%) वोटों के साथ जीत हा’सिल की। वहीं दूसरे नंबर पर राष्ट्रीय जनता दल के आलोक कुमार मेहता रहें, जिनको कुल 256,883 (18%) वोट मिला। तीसरे नंबर पर जनता दल यूनाइटेड की अश्वमेध देवी रहीं, जिन्हें कुल 119,669 (8%) वोट मिला। इस निर्वाचन क्षेत्र में लगभग 15 लाख मतदाता हैं। आपको बता दें कि यही अश्वमेध देवी ने 2009 में यह सीट जीती थी। 2008-09 से पहले यह सीट जिला समस्तीपुर के अंदर आता था।

जानियें उजियारपुर के सांसद नित्यानंद राय को-

राय भाजपा बिहार के वर्तमान अध्यक्ष हैं। राय हाजीपुर से, 2000 से लेकर 2014 तक लगातार तीन बार विधायक रहें हैं। वे 2014 में उजियारपुर से भाजपा के टिकट पर लोकसभा सांसद बनें। उन्हें 2006-10 में बिहार विधानमंडल के सचेतक के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्हें कई बार संसदीय समिति का सदस्य बनने का भी मौका मिला है, जैसे- भूमि अधिग्र’हण विधेयक-2015 पर निष्प’क्ष मुआ’वजे और पारदर्शिता के अधिकार पर संयुक्त समिति के सदस्य रहे हैं और 2014 में कृषि पर स्थायी समिति के सदस्य बने हैं।

जन्मतिथि- 1 जनवरी 1966
पत्नी- अमिता राय
शिक्षा- ग्रेजुएट
संपत्ति- लगभग 15 करोड़

Nityanand Rai Upendra Kushwaha
Nityanand Rai Upendra Kushwaha
जानियें दूसरे स्थान पर रहे उपेन्द्र कुशवाहा को –

वे 2014 में एनडीए की टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ें और काराकाट सीट से चुने गए। इतना ही नहीं उन्हें मंत्री भी बनाया गया था, लेकिन दिसंबर 2018 में, उन्होंने बिहार से अपने चुनावी वा’दों को पूरा नहीं करने का आ’रोप लगाते हुए, मंत्रालय से इस्ती’फा दे दिया और एनडीए छोड़ दिया। कुशवाहा भारत सरकार में मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री रह चुके हैं। वह राज्यसभा के पूर्व सदस्य और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के नेता हैं। उन्होंने 3 मार्च 2013 को राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) की स्थापना की। वे कुशवाहा बहुल जिला काराकाट से 2014 में लोकसभा सांसद चुने गये थे।

राजनीतिक कैरियर-

कुशवाहा ने 1985 में एक राजनेता के रूप में अपना करियर शुरू किया। वह युवा लोक दल (1985-88) में राज्य महासचिव थे। हालांकि बाद में वे 1988-93 के दौरान महासचिव भी बनें। उन्होंने 1994-2002 तक समता पार्टी के महासचिव के रूप में भी काम किया था। कुशवाहा 2000-2005 में बिहार विधान सभा के सदस्य भी रह चुके हैं।

जानियें कामरेड अजय कुमार के बारे में-

बिहार के उजियारपुर लोकसभा सीट से 2019 के लोकसभा चुनाव में CPI के उम्मीदवार रहे। 2005 में भी उन्होंने पार्टी की ओर से उजियारपुर क्षेत्र से विधानसभा का चुनाव लड़ें। अपने छात्र जीवन से ही राजनीति के क्षेत्र में सक्रिय हैं। वे सीपीआई(एम) के राज्य सचिव मंडल के युवा चेहरों में से एक हैं। उनका घर खगड़िया में है, लेकिन पढ़ाई समस्तीपुर से किये हैं। जवाहर रोजगार योजना में भ्रष्टा’चार एवं नॉन-बैंकिंग कम्पनी की धोखा’धड़ी के खि’लाफ संघ’र्ष किया। 2009 में दलसिंहसराय में नौवीं कक्षा के छात्र के अप’हरण एवं ह’त्या के खि’लाफ संघ’र्ष का नेतृत्व किया एवं जे’ल गए।

जानियें उजियारपुर लोकसभा क्षेत्र के बारे में-

पहले यह क्षेत्र जिला समस्तीपुर लोकसभा क्षेत्र में आता था। यह लोकसभा सीट 2008 में अस्तित्व में आई। यह क्षेत्र जननायक कर्पूरी ठाकुर की जन्मभूमि एवं कर्मभूमि रही है। इस लोकसभा क्षेत्र के अंदर छह विधानसभा क्षेत्र है- उजियारपुर, मोहिउद्दीननगर, पातेपुर, सरायरंजन, मोरवा, और विभूतिपुर है। यहां वोटरों की संख्या 15 लाख 69 हजार 392 है।