मासूम बच्चों की मौ’त ने अंदर तक विच’लित कर दिया है : पंकज त्रिपाठी

PATNA : फिल्म अभिनेता पंकज त्रिपाठी ने सबको भावुक कर देने वाली एक चिट्ठी ट्विटर पर पोस्ट की। इसमें उन्होंने लिखा कि इस ह्रदय विदा’रक घटना ने मन को अंदर तक झ’कझोर दिया है। समझ में नहीं आता इसके लिए सरकार,सिस्टम और समाज में से किसे दो’ष दें?

पंकज त्रिपाठी ने लिखा, ‘मुजफ्फरपुर की घटना ने अंदर तक झकझोर कर रख दिया है। बहुत विच’लित महसूस कर रहा हूं। समझ नहीं आता किस -किस को दोष दें। एक देश, एक राज्य, एक समाज और एक व्यक्ति के रूप में हर स्तर पर यह हमारी असफलता है। हम किस सदी में जी रहे हैं? सरकार, अधिकारी, सिस्टम, समाज, आप और हम सब को बच्चों से माफी मांगनी चाहिए।’ बिहार की इस हृदयविदारक घटना से सभी लोग आहत है। 167 मासूम बच्चों की मौ’त ने सभी को झ’कझोर कर रख दिया है।

मौ’त का आंकड़ा 180 के पार-

बिहार में लगातार AES यानी चमकी बुखार से लगातार बच्चों की मौ’त हो रही है। अब तक के आंकड़ो के मुताबिक  180 बच्चों की मौ’त चमकी बुखार से हो गई है। सबसे ज़्यादा बच्चे मुजफ्फरपुर में म’रे हैं।आपको बता दें कि, मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार का प्रको’प करीब एक दशक से चला आ रहा है,लेकिन इसके लिए अब तक कोई स्थायी समाधान नहीं निकाला जा सका है। वहीं, इस मामले में कई लोगों की लापरवाही भी सामने आई है। जबकि सरकार अभी भी इस बीमारी के बारे में रिसर्च करने के लिए एक साल तक का समय मांग रही है। सिर्फ मुजफ्फरपुर में ही  135 से ज्यादा बच्चे अस’मय का’ल के गा’ल में स’मा चुके हैं। वहीं SKMCH और केजरीवाल अस्पताल में 131 बच्चे इलाजरत हैं। मुजफ्फरपुर जिले में ही अब तक 580 बच्चे बी’मारी से प्रभावित हो चुके हैं।