JNU में विरो’ध कर रहे छात्रों के समर्थन में उतरे पप्पू यादव,पत्रकार की टिप्पणी का दिया जवाब

PATNA : JNU में फीस की बढो़त्तरी के खिलाफ चल रहे छात्रों के आंदोलन का पप्पू यादव ने समर्थन किया है। उन्होंने आजतक टीवी चैनल की महिला पत्रकार के ट्वीट का जवाब देते हुए कहा कि भारतीय संस्कृति जिस पर आप गर्व करती हैं, वहां तो अंतिम सांस तक शिक्षा और ज्ञान हासिल करने की परंपरा रही है।

नृशंस बाजारवाद के युग में भी ज्ञान हासिल करने को आतुर युवाओं पर यह कैसा सवाल है। आपको बता दें कि चैनल की महिला पत्रकार ने एक फोटो ट्वीट करके कहा था कि एक तरफ मेहनत करके अपने परिवार का पेट पालने वाले 20-21 साल के वो नौजवान हैं जो टैक्स भी भरते हैं और दूसरी तरफ वो लोग हैं जो सिर्फ प्रदर्शन करते हैं।

आपको बता दें कि नए पारित प्रावधानों के तहत, हॉस्टल शुल्क को कथित रूप से 10 रुपये से बढ़ाकर 1,500 रुपये प्रति माह कर दिया गया है। इसके अतिरिक्त उनसे बिजली और पानी बिल लिया जाएगा। इसी तरह मेस शुल्क भी बढ़ाया गया है। इसको लेकर कई छात्रों ने कहा कि यह कदम ऐसा है जिससे उन्हें पढ़ाई छोड़नी पड़ेगी। नए दिशानिर्देशों के अनुसार 11:00 बजे के बाद किसी भी छात्र को हॉस्टल से बाहर जाने की अनुमति नहीं है।

इन बदलावों पर टिप्पणी करते हुए जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष एन साई बालाजी ने कहा कि परिवर्तन विश्वविद्यालय के चरित्र को बदल देगा। उन्होंने कहा कि जेएनयू को अब निजीकरण की ओर धकेला जा रहा है। इसका खामियाजा अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और ओबीसी (अन्य पिछड़े वर्ग) समुदायों के छात्रों के अलावा अन्य लोग पर भी पड़ेगा।तेजप्रताप यादव ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यह फासीवादी शासन जेएनयू जैसे सार्वजनिक वित्तपोषित शिक्षण संस्थानों को नष्ट करने में जुटा है।