राजधानी पटना की हवा लगातार आठवें दिन भी दूषित, एयर क्वालिटी इंडेक्स 383 किया गया दर्ज

PATNA: राजधानी पटना की हवा दीपावली के बाद लगातार आठवें दिन भी बहुत खराब रही। अगर बात सोमवार के एयर क्वालिटी इंडेक्स की करें तो वह 383 दर्ज की गई। जो रविवार की तुलना में थोड़ी बेहतर थी। अगर राजधानी पटना के एयर क्वालिटी इंडेक्स की बात करें तो वह दिल्ली के निकटवर्ती क्षेत्रों, पश्चिमी उत्तर-प्रदेश और पंजाब, हरियाणा से भी ज्यादा रहा।

इसके पीछे मुख्य कारण पीएम 2.5 की बढ़ी हुई मात्रा रही। दिन की बात छोड़ दें, तो देर शाम 6:30 बजे पटना की हवा में पीएम 2.5 की मात्रा 244 माइक्रोग्राम्स प्रति क्यूबिक मीटर रही, जो सामान्य से करीब पांच गुना ज्यादा और बहुत भयावह है।

वायु प्रदूषण बढ़ने के चलते पटना में 5 प्रतिशत सांस के मरीज बढ़ गए हैं। पीएमसीएच की ओपीडी में सोमवार को कुल 1844 मरीज भर्ती हुए। जिसमें से सांस के मरीजों की संख्या 5 प्रतिशत तक बढ़ी हुई पाई गई। वहीं, आइजीआइएमएस में 3100 नये और पुराने मरीजों का रजिस्ट्रेशन किया गया, जिसमें भी सांस से जुड़ी बीमार लोगों की संख्या में कुछ इजाफा देखने को मिला।

राजधानी पटना के साथ मुजफ्फरपुर, गया, भागलपुर की हवा की गुणवत्ता में गिरावट दर्ज की गई। दीपावली के बाद इन शहरों में हवा काफी दूषित देखी गई। मुजफ्फरपुर में विषैली गैस का अनुपात एयर क्वालिटी इंडेक्स बढ़कर 437 तक पहुंच गया था। इसके बाद से एक्यूआइ लगातार 200 से 300 तक बना हुआ है।