पटना में बारिश के बाद डेंगू के मरीजों की संख्या हुई 800 के पार, जानें बचने के उपचार

PATNA: राजधानी पटना में बारिश के बाद लोगों को अब डेंगू का डर सताने लगा है। राज्य में डेंगू के मरीजों की संख्या में तेजी से वृद्धि हो रही है। मरीजों की संख्या 1000 पार कर गई है। डेंगू और चिकनगुनिया की बात करें तो मरीजों की संख्या 1184 हो गई है।

डेंगू के बढ़ते मरीजों के बीच MIN, NID, RMRI और स्वास्थ्य विभाग ने सर्वेक्षण किया। इस दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम को घरों के अंदर डेंगू का लार्वा 30 से 40 फीसदी मिला। जिसके चलते डेंगू और चिकनगुनिया के मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि होती जा रही है।

अगर ये लक्षण दिखाई दें तो डॉक्टर से सम्पर्क करें:

डेंगू एडीज मच्छरों के काटने से होता है, इस रोग में तेज बुखार के साथ शरीर पर लाल-लाल चकत्ते दिखायी देते हैं। इसमें मरीज को 104 डिग्री तेज बुखार आता है और सिर में तेज दर्द होता है। शरीर के साथ जोड़ों में भी दर्द होता है। इसी के साथ ही खाना पचाने में दिक्कत होती है।

डेंगू शुरुआती लक्षणों में उल्टी होना, भूख कम लगना और ब्लड प्रेशर कम होना अन्य लक्षण हैं। इसी के साथ ही कमजोरी महसूस होना, चक्कर आना और बॉडी में प्लेटलेट्स की कमी हो जाना खास लक्षण हैं। डेंगू से बचने के लिए मरीज को अधिक से अधिक मात्रा में तरल पदार्थ दीजिये जिससे उसके शरीर में पानी की कमी न रहे। इस स्थिति में मरीज को नारियल पानी और जूस पिलाएं। वहीँ बुखार होने पर तुरंत चिकित्सक के पास जाएं। बुखार कम करने के लिए पेरासिटामॉल की गोली दी जा सकती है। मरीज को गलती से भी डिस्प्रीन और एस्प्रीन की गोली कभी ना दें।