पटना हाईकोर्ट से सुशील मोदी को मिली राहत, कोर्ट ने संज्ञान आदेश को किया निरस्त

PATNA: बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil kumar Modi) के लिए पटना हाईकोर्ट से राहत की खबर सामने आ रही है। साल 2014 को पटना के सचिवालय थाना के पास रेल चक्का जाम करने से जुड़े मामले को लेकर पटना हाईकोर्ट ने संज्ञान आदेश को निरस्त कर दिया है।

रेल चक्का जाम करने से जुड़े मामले में बीजेपी के अन्य नेताओं को भी राहत मिली है। सुशील मोदी के साथ अन्य लोगों के खिलाफ प्राथमिकी के आधार पर रेलवे मजिस्ट्रेट ने मुकदमा चलाने के लिए संज्ञान लिया था। वहीँ पटना हाईकोर्ट ने इस मामले को लेकर डिप्टी सीएम सुशील मोदी के साथ भाजपा एमएलए नितिन नवीन और पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव को राहत दी।

sushil modi

गुरूवार को इस मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस वीरेंद्र की सिंगल बेंच ने डिप्टी सीएम सुशील मोदी के साथ नंद किशोर यादव और नितिन नवीन के खिलाफ पटना रेलवे मजिस्ट्रेट द्वारा मामले में लिए गए संज्ञान आदेश को रद्द कर दिया। बता दें कि ये मामला 5 वर्ष पुराना है।

रेलवे मजिस्ट्रेट ने इन नेताओं के खिलाफ प्राथमिकी के आधार पर केस चलाने के लिए संज्ञान लिया था। वहीँ रेलवे के संज्ञान आदेश को इन नेताओं ने हाईकोर्ट में अपराधिक याचिका दायर कर चुनौती दी थी। सुनवाई के बाद कोर्ट ने इन लोगों के खिलाफ मुकदमा चलाने के लिए लिए गए संज्ञान आदेश को निरस्त कर दिया है।