3 महीने में शुरू होगा पटना मेट्रो का काम, जमीन अधिग्रहण से पहले किया जाएगा डिजिटल GPS सर्वे

PATNA: पटना मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (PMRC) ने तीन महीने के अन्दर मेट्रो रेल परियोजना पर काम शुरू करने का लक्ष्य रखा गया है। पहला मेट्रो रेल दानापुर में विकसित किया जाएगा। PMRC के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मेट्रो रेल परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।

शहरी विकास और आवास विभाग के विशेष सचिव संजय कुमार ने मंगलवार को मीडिया से बात करते हुऐ कहा कि पटना मेट्रो रेल के लिए परियोजना प्रगति रिपोर्ट (PPR) राज्य वित्त विभाग को प्रस्तुत की गई है। उन्होंने बताया कि हम लोग PPR की मंजूरी का इंतजार कर रहे हैं।

PATNA METRO..

संजय कुमार ने बताया कि परियोजना निदेशक और महाप्रबंधक सहित पांच अधिकारी पहले ही पीएमआरसी में शामिल हो चुके हैं। दयाल ने कहा कि हम तकनीकी और कानूनी सहायता के लिए सलाहकार भी नियुक्त करेंगे। उन्होंने कहा कि इसका उद्देश्य है की सभी को सामाजिक-आर्थिक समूह के लिए शहर में गतिशीलता में सुधार करना है। हमने जियोकोडिंग के माध्यम से गूगल मानचित्र पर मेट्रो स्थान का भी अपडेट कर दिया है।

PMRC के महाप्रबंधक विजयशील कश्यप ने कहा कि अधिकारियों ने हाल ही में दो मेट्रो डिपो के लिए स्थान तय कर दिया। वहीँ प्रोजेक्ट को लेकर यह निर्णय लिया गया कि पहला डिपो दानापुर में बनाया जाएगा और एक पटना-गया रोड पर ऐतवारपुर के पास प्रस्तावित अंतरराज्यीय बस टर्मिनल (ISBT) के पास बनाया जाऐगा। कश्यप ने बताया कि हमने पीएमआरसी मुख्यालय के निर्माण के लिए एक सरकारी जमीन देख ली है। पटना मेट्रो रेल परियोजना का निर्माण पीएम नरेंद्र मोदी ने 17 फरवरी को मोकामा में रिमोट कंट्रोल के जरिए की थी।

परियोजना में पाँच साल लगेंगे और 13,365.77 करोड़ रुपये:

इस परियोजना को तीन चरणों में पूरा करने में पाँच साल लगेंगे और 13,365.77 करोड़ रुपये के अनुमान खर्च के साथ। परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण की लागत राज्य सरकार वहन करेगी। पीएमआरसी के सूत्रों ने कहा कि काम पहले 16.94 किलोमीटर पूर्व-पश्चिम दिशा पर किया जाएगा जो दानापुर को सगुना मोड़, बेली रोड और पटना जंक्शन से मीठापुर बस स्टैंड से जोड़ेगा। दूसरी ओर 14.45 किलोमीटर उत्तर-दक्षिण दिशा से पटना जंक्शन को अशोक राजपथ, गांधी मैदान और राजेंद्र नगर होते हुए बैरिया में प्रस्तावित बस स्टैंड से जोड़ेगा।