डॉ. वशिष्ठ नारायण के निधन पर PM मोदी ने जताया शोक, कहा- देश ने खो दी विलक्षण प्रतिभा

PATNA : भारत और बिहार का नाम विश्व पटल पर रोशन करने वाले बिहार के प्रख्यात गणितज्ञ डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह का निधन हो गया है। इस पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शोक व्यक्त किया है। उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि उनके जाने से देश ने ज्ञान-विज्ञान के क्षेत्र में अपनी एक विलक्षण प्रतिभा को खो दिया है।

पीएम मोदी ने कहा कि उनके न रहने से मैं बहुत दुखी हूँ। आज देश ने एक महान प्रतिभा को खो दिया है। मोदी के अलावा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी डॉ. वशिष्ठ नारायण को श्रद्धांजलि दी है और उनके ज्ञान को नमन किया है।

महान गणितज्ञ डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह के निधन पर अब नीतीश सरकार ने कहा है कि उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा। बताया जा रहा है कि पीएमसीएच प्रशासन द्वारा वशिष्ठ नारायण सिंह के परिजनों के साथ किये गए व्यवहार सरकार ने रिपोर्ट मांगी है।अंतिम संस्कार को लेकर बताया जा रहा है कि वशिष्ठ नारायण का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव भोजपुर जिले के बसंतपुर में किया जाएगा।

वशिष्ठ नारायण सिंह बीते कई महीनों से बीमार चल रहे थे। वहीँ वशिष्ठ नारायण सिंह के निधन के बाद पीएमसीएच की हरकत को लेकर उनके परिजनों ने नाराजगी व्यक्त की। परिजनों को कहना है कि अस्प्ताल प्रशासन ने उन्हें एम्बुलेंस तक उपलब्ध नहीं कराई। वशिष्ठ ने नासा में भी काम किया था। 1967 में सिंह को कोलंबिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैथेमैटिक्स का निदेशक बनाया गया। यहां इनके शोध पत्र की चोरी हो गये। जिससे इनके दिमाग पर बहुत बुरा असर पड़ा था क्योंकि किसी भी वैज्ञानिक के लिये उसके शोध पत्र उसकी जान से भी बढ़कर कीमती होते हैं।