चीन के वीटो पर सियासत : कांग्रेस ने मोदी को बताया कमजोर, भाजपा ने नेहरू को ठहराया जिम्मेदार

PATNA :  जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आ’तंकवादी घोषित करने के प्रयास में चीन ने अपना वीटो पावर लगा कर अडंगा लगा दिया जिसके बाद भारत में सियासत तेज हो गई। विपक्ष न इसके लिए मोदी की कमजोर विदेश नीति को जिम्मेदार ठहराया है तो पलटवार में भाजपा ने नेहरू की चीन नीति के जरिये कांग्रेस को घेरा। राष्ट्रीय जनता दल ने ट्वीट कर कहा है कि “मोदी जी को पांच साल लग गये यह समझने में कि कूटनीति पप्पी, झप्पी और झूले से कहीं आगे है।”  

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने ट्वीट कर मोदी को कमजोर बताया। उन्होंने कहा कि “कमजोर मोदी शी चिनफिंग से डरे हुए हैं। जब चीन भारत के खिलाफ कदम उठाता है तो उनके मुंह से एक शब्द नहीं निकलता है।’ राहुल गाँधी के आरोपों से तिलमिलाए भाजपा ने पलटवार करते हुए राहुल गाँधी पर तंज किया है। केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि जब भी भारत को तकलीफ होती है राहुल गाँधी के चेहरे पेर ख़ुशी आ जाती है। उन्होंने कहा कि राजनीति में विरोध होना चाहिए लेकिन जहाँ राष्ट्रीय हित का मुद्दा है वहां भी चीन की चाल पर खुश होते हुए सरकार की नीति को कोस रहे हैं। उन्होंने राहुल गाँधी को याद दिलाते हुए तंज किया कि जब 2019 में यूपीए सरकार मसूद अजहर पर बैन लगवाने का  प्रयास कर रही थी तब भी चीन ने वीटो पावर लगा कर ऐसे ही अडंगा लगाया था।  तब राहुल जी ने ट्वीट क्यों नहीं किया ?

भाजपा ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर चीन पर नेहरू की नीति को भी लपेटे में लिया। भाजपा ने ट्वीट किया “चीन संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का हिस्सा न बन पाता, अगर आपके ग्रैंडफादर ने भारत की कीमत पर उन्हें यह ‘गिफ्ट’ न दिया होता। भारत आपके परिवार द्वारा की गई गलतियों को सुधार रहे हैं। निश्चिंत रहें कि आतंक के खिलाफ लड़ाई में भारत विजयी होगा। यह सब प्रधानमंत्री  मोदी पर छोड़ दीजिए और चीनी राजदूतों के साथ अपनी गुप्त मुलाकात जारी रखें।