अभी-अभीः NDA छोड़ने वाले मांझी ने की डिमांड, कहा- MLC की दो सीट मेरी पार्टी को दे राजद

अभी-अभीः NDA छोड़ने वाले मांझी ने की डिमांड, कहा- MLC की दो सीट मेरी पार्टी को दे राजद

By: Sudakar Singh
March 13, 12:17
0
...................

PATNA : एनडीए से नाता तोड़ राजद से साथ हाथ मिलाने वाले हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने अब डिमांड करना शुरू कर दिया है। उन्होंने राजद से विधान परिषद के लिए दो सीट की मांग की है। उन्होंने कहा कि वे राज्यसभा नहीं जाना चाहते थें। उन्हें किसी पद की कोई लालसा नहीं है। मगर पार्टी को जरूरत है। 


उन्होंने कहा कि राजद को मुझे विधान परिषद के लिए दो सीट देना चाहिए। कांग्रेस के नेतृत्व में एक मजबूत विपक्ष को तैयार किया जा रहा है। बताया जा रहा कि जीतन राम मांझी विधान परिषद की एक सीट अपने बेटे संतोष मांझी और दूसरी किसी अन्य के लिए मांग रहे हैं। जब मांझी महागठबंधन में शामिल हुए थे तो यह भी कहा जा रहा था कि राजद मांझी को राज्यसभा भेज सकती है। मगर ऐसा नहीं हुआ।


आपको बात दें कि अपनी मांगों को लेकर ही मांझी को एनडीए छोड़ना पड़ा था। बिहार में जब तीन सीटों के लिए उप चुनाव की घोषणा हुई तो एनडीए में रहने के दौरान मांझी ने बीजेपी से जहानाबाद सीट पर अपना उम्मीदवार उतारने का दावा पेश कर दिया। वह दावा पेश करने वालों में अकेले नहीं थे। रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उप्रेंद्र कुशवाहा ने भी जहानाबाद सीट पर अपना दावा ठोक दिया था।
मांझी और कुशवाहा के दावों पर बीजेपी ने ध्यान नहीं दिया और दोनों को किनारा कर दिया। अंत में मांझी ने अपना दावा वापस ले लिया। इसके बाद राज्यसभा चुनाव की घोषणा हुई। इस बार भी मांझी ने बीजेपी के सामने अपनी डिमांड रख दिया। उन्होंने बीजेपी से राज्यसभा सीट की मांग कर दी। इस बार भी एनडीए में उन्हें अहमीयत नहीं दी गई। 


जीतन राम मांझी को जब लगा कि एनडीए में उन्हें कोई महत्व नहीं दिया जा रहा है तो अंत में उन्होंने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव और लालू परिवार के बेहद करीबी भोला यादव के साथ मिलकर महागठबंधन में शामिल हो गए। उन्होंने महागठबंधन के साथ शामिल होने के ऐलान करते हुआ कहा कि एनडीए में उन्हें महत्व नहीं दिया जा रहा है। इसलिए वह राजद के साथ जा रहे हैं। अभी मांझी को महागठबंधन में शामिल हुए महीना भी नहीं हुआ और यहां भी उन्होंने डिमांड करना शुरू कर दिया। 
हालांकि ये पहले ही कहा जा रहा थी कि जीतन राम मांझी ने राजद के साथ समझौता किया है और इसी के तहत वह महागठबंधन में शामिल हुआ हैं। पहली बात जो कही जा रही थी वो विधान परिषद के लिए दो सीट की मांग थी। जो अब सच साबित हो रही है। दूसरी बात राज्यसभा जाने की थी जो गलत साबित हुई।               
 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments